Karnataka Election Result : किसके पक्ष में लिंगायत और वोक्कालिग्गा समुदाय, रुझानों में देखिए कौन आगे

10

Karnataka Election Result Updates : कर्नाटक विधानसभा चुनाव 2023 की मतगणना जारी है. इस चुनाव में लिंगायत और वोक्कालिग्गा समुदाय को किंगमेकर माना जा रहा है. बताया जा रहा है कि इन दोनों समुदायों के मतदाताओं का आशीर्वाद जिस दल को मिलेगा, उसकी सरकार बन सकती है. वर्ष 1956 में भाषा के आधार पर राज्यों का पुनर्गठन हुआ. इसके बाद कन्नड़ भाषा वाला राज्य मैसूर अस्तित्व में आया. बाद में चलकर इसका नाम कर्नाटक पड़ा. हमेशा से ही यहां पर लिंगायत समुदाय का दबदबा रहा है. कर्नाटक में अब तक करीब आठ मुख्यमंत्री लिंगायत समुदाय से बने हैं. यहां की करीब 110 सीटों पर लिंगायत समुदाय दबदबा है. आइए, जानते हैं लिंगायत बहुल प्रमुख सीटों पर क्या है रुझान…

हुबली-धारवाड़ पश्चिमी

हुबली-धारवाड़ पश्चिमी विधानसभा सीट भाजपा और लिंगायत का गढ़ माना जाता है. यहां पर भाजपा की ओर से अरविंद बेल्लाड और कांग्रेस की ओर से दीपक चिंचोर को उम्मीदवार बनाया है. चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, इस सीट से भाजपा के प्रत्याशी अरविंद बेल्लार को 10294 और कांग्रेस के दीपक चिंचोर को 5996 वोट मिले हैं. इस सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी पीछे चल रहे हैं.

हुबली-धारवाड़ पूर्वी

हुबली-धारवाड़ पूर्वी विधानसभा सीट भाजपा और लिंगायत का गढ़ माना जाता है. इस सीट से भाजपा की ओर से डॉ क्रांति किरण और कांग्रेस की ओर से अभया प्रसाद को टिकट दिया गया है. चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, सुबह 10 बजे तक कांग्रेस के प्रत्याशी अभया प्रसाद को 24375 और भाजपा के प्रत्याशी डॉ क्रांति किरण को 18960 वोट मिले हैं. इस सीट पर भाजपा के प्रत्याशी पीछे चल रहे हैं.

हुबली-धारवाड़ सेंट्रल

हुबली-धारवाड़ सेंट्रल विधानसभा सीट भाजपा और लिंगायत का गढ़ माना जाता है. इस सीट से पिछले चुनाव में जगदीश शेट्टार ने जीत हासिल की थी. इस बार भाजपा से टिकट नहीं मिलने वे कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. भाजपा ने महेश महेश तेंगिंकाई को प्रत्याशी बनाया है. चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, सुबह 10 बजे तक इस सीट से कांग्रेस के जगदीश शेट्टार को 14705 वोट मिले हैं, जबकि भाजपा के प्रत्याशी महेश तेंगिंकाई को 22201 वोट मिले हैं. इस सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी पीछे चल रहे हैं.

शिगगांव

मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई का निर्वाचन क्षेत्र और लिंगायत का गढ़ है. इस सीट पर बसवराज बोम्मई के मुकाबले कांग्रेस ने पठान यसीराहमेद खान को मैदान में उतारा है. चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, सुबह 10 बजे तक मुख्यमंत्री बोम्मई को 31445 और कांग्रेस के प्रत्याशी यसीराहमेद खान को 15379 वोट मिले हैं.

बादामी

इस विधानसभा सीट पर बीबी चिमनकट्टी कांग्रेस के उम्मीदवार हैं, जबकि शांतागौड़ा तीर्थगौड़ा पाटिल भाजपा की ओर से चुनाव लड़ रहे हैं. चुनाव आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, सुबह 10 बजे तक कांग्रेस के उम्मीदवार चिमनकट्टी को 10510 मिले हैं, जबकि भाजपा प्रत्याशी पाटिल को 10050 वोट मिले हैं. यह सीट लिंगायत बहुल है.

शिकारीपुरा

शिकारीपुरा विधानसभा सीट बीएस येदियुरप्पा के लिंगायत का गढ़ माना जाता है. यह सीट शिवमोग्गा के लिंगायत बहुल जिले का हिस्सा है. चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, सुबह 10 बजे तक भाजपा के नेता बीएस येदियुरप्पा के बेटे विजयेंद्र येदियुरप्पा को 13889 वोट मिले हैं. वहीं, उनके प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के प्रत्याशी गोनी मलातेश को 1005 वोट मिले हैं.

हनूर

पुराने मैसूरु क्षेत्र का हिस्सा, हनूर राज्य के वोक्कालिगा गढ़ों में से एक है. यहां 2018 के चुनावों में लगभग 5 प्रतिशत के अंतर से हारने के बाद भाजपा कांग्रेस से सीट पर नियंत्रण करना चाह रही है. चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, 2023 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से कांग्रेस की ओर से आर नरेंद्र और भाजपा की ओर से डॉ प्रीथान केएन को प्रत्याशी बनाया गया है. सुबह 10 बजे तक के रुझान में कांग्रेस के प्रत्याशी को 14913 वोट मिले हैं, जबकि भाजपा के प्रत्याशी को 7454 मत मिले हैं.

गुंडलुपेट

एक और वोक्कालिगा गढ़ जो पुराने मैसूर क्षेत्र का हिस्सा है, भाजपा पिछले चुनाव में कांग्रेस से सीट छीनने में कामयाब रही थी. इस बार के विधानसभा चुनाव में इस सीट से कांग्रेस की ओर से एचएम गणेश प्रसाद और भाजपा की ओर से सीएस निरंजन को मैदान में उतारा गया है. चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, कांग्रेस के गणेश प्रसाद को 19161 वोट और भाजपा के प्रत्याशी सीएस निरंजन को 11617 वोट मिले हैं.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.