कराची में भारत के कैदी की मौत, 12 मई को 199 मछुआरों को रिहा करेगा पाकिस्तान

5

कराची : पाकिस्तानी प्रशासन की ओर से एक सद्भावनापूर्ण कदम उठाते हुए अपने जल क्षेत्र में अवैध रूप से मछली पकड़ने के आरोप में गिरफ्तार किए गए भारत के 199 मछुआरों को शुक्रवार यानी 12 मई को रिहा करने की उम्मीद की जा रही है. एक अधिकारी ने बताया कि हालांकि, इस दौरान एक अन्य भारतीय नागरिक की मौत हो गई, जिसे 199 मछुआरों के साथ प्रत्यावर्तित किया जाना था.

सिंध के लांधी जेल में बंद हैं भारत के मछुआरे

मीडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के सिंध में जेल और सुधार विभाग के एक शीर्ष पुलिस अधिकारी काजी नजीर ने कहा कि उन्हें संबंधित सरकारी मंत्रालयों की ओर से 199 मछुआरों को शुक्रवार को रिहा करने और उन्हें उनके देश भेजने की तैयारी करने के लिए कहा गया है. इन मछुआरों को पहले लाहौर भेजा जाएगा और वाघा बॉर्डर पर भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया जाएगा. ये मछुआरे फिलहाल यहां लांधी जेल में बंद हैं.

भारतीय नागरिक जल्फिकार की बीमारी से मौत

जेल और सुधार विभाग के अधिकारी काजी नजीर ने कहा कि एक भारतीय नागरिक जुल्फिकार की बीमारी के कारण शनिवार को कराची के एक अस्पताल में मौत हो गई. जुल्फिकार को भी मछुआरों के साथ रिहा किया जाना था. उन्होंने कहा कि लांधी जेल के अधिकारियों के अनुसार भारतीय कैदी ने तेज बुखार और सीने में तकलीफ की शिकायत की थी. पिछले हफ्ते उसकी हालत बिगड़ गई थी. उसे अस्पताल भेजा गया, जहां फेफड़ों में संक्रमण के कारण उसकी मौत हो गई.

लांधी और मलीर जेल में पर्याप्त सुविधाएं नहीं

उन्होंने बताया कि भारत के मछुआरों को लाहौर तक पहुंचाने और जेलों में उन्हें अन्य सहायता मुहैया कराने वाले एधी कल्याण ट्रस्ट के एक अधिकारी ने जुल्फिकार की मौत के संदर्भ में बताया कि लांधी और मलीर जेल में पर्याप्त व्यवस्था और सुविधाएं नहीं हैं तथा बीमार कैदियों को नियमित रूप से तथा समुचित इलाज के लिए संघर्ष करना पड़ता है. अधिकारी ने बताया कि जेल के डॉक्टर तथा अस्पताल में गंभीर बीमारियों के मरीजों के इलाज के लिए समुचित सुविधाएं और उपकरण नहीं हैं और वे मरीज को दूसरे अस्पताल ले जाने की सिफारिश करते हैं, लेकिन कई बार बहुत देर हो चुकी होती है.

लांधी और मलीर जेल में 631 मछुआरे कैद

पाकिस्तान-इंडिया पीपल्स फोरम फॉर पीस एंड डेमोक्रेसी के अनुसार, फिलहाल, भारत के 631 मछुआरे और एक अन्य कैदी जेल की सजा पूरी करने के बावजूद कराची की लांधी और मलीर जेल में बंद हैं. कराची में फोरम के साथ काम करने वाले आदिल शेख ने कहा कि पाकिस्तान और भारत के बीच समुद्री क्षेत्रीय सीमांकन संधि का कथित रूप से उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किए जाने के बाद भारत के ये सभी मछुआरे पाकिस्तानी जेलों में बंद किए गए हैं. उन्होंने कहा कि लगभग सभी गरीब अनपढ़ लोग हैं.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.