थैंक्स मोदी जी! पीएम नरेंद्र मोदी की एक मुलाकात के बाद हुआ खेला, 8 पूर्व भारतीय नौसैनिक जेल से आए बाहर

4

सोमवार सुबह एक बड़ी खबर देश के लोगों को मिली. दरअसल, कतर की एक जेल में बंद आठ पूर्व भारतीय नौसैनिकों को रिहा कर दिया गया है. इनमें से सात भारत लौट आए हैं. इस बाबत जानकारी विदेश मंत्रालय की ओर से दी गई जिसके बाद पूरे देश में खुशी की लहर दौड़ पड़ी. लोग इसे मोदी सरकार की बड़ी जीत बता रहे हैं. विदेश मंत्रालय ने कहा कि कतर में हिरासत में लिए गए दहरा ग्लोबल कंपनी के लिए काम करने वाले आठ भारतीय नागरिकों की रिहाई का भारत सरकार स्वागत करती है. आगे मंत्रालय ने बताया कि रिहा किए गए आठ भारतीयों में से सात भारत लौट चुके हैं. हम इन नागरिकों की रिहाई और घर वापसी के लिए कतर के अमीर के फैसले की सराहना करते हैं.

कतर के अमीर की बात करें तो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात इनसे कुछ दिन पहले हुई थी. कतर में पूर्व भारतीय नौसैनिकों को मौत की सजा दिए जाने के बाद भारत की सरकार हरकत में आ गई थी. भारत की ओर से कतर के कोर्ट की फांसी वाली सजा पर आपत्ति जताई गई थी. यही नहीं पूर्व भारतीय नौसैनिकों को हर संभव मदद की भी घोषणा की गई थी. इस बीच पिछले साल दिसंबर की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कतर के शासक शेख तमीम बिन हमद अल थानी से मुलाकात की थी जिसके बाद अच्छी खबर आने लगी थी. पहले कतर में पूर्व भारतीय नौसैनिकों की मौत की सजा पर रोक लगाने की खबर आई और अब 8 पूर्व भारतीय नौसैनिकों की रिहाई की खबर आई है. यानी पीएम मोदी की एक मुलाकात ने पूरा खेल ही बदल दिया.

भारत पहुंचने के बाद बोले पूर्व नौसैनिक- थैंक्स मोदी सरकार

कतर से लौटे पूर्व भारतीय नौसेना कर्मियों में से एक ने वतन वापसी पर खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हस्तक्षेप किया जिस वजह से हम आज यह दिन देख पा रहे हैं. उनकी वजह से ही हम आज भारत लौट सके हैं. यह भारत सरकार के निरंतर प्रयासों की वजह से संभव हो पाया है. वहीं एक अन्य ने कहा कि हमने भारत वापस आने के लिए करीब 18 महीने तक इंतजार किया. हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेहद आभारी हैं. यह उनके व्यक्तिगत हस्तक्षेप के कारण ही हो सका है. हम भारत सरकार द्वारा किए गए हर प्रयास के लिए तहे दिल से आभारी हैं.

मोदी सरकार की एक बड़ी जीत

यहां चर्चा कर दें कि नौसेना के आठ पूर्व कर्मियों को जासूसी के आरोप में अगस्त 2022 में गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद कतर की एक अदालत ने उन्हें मौत की सजा सुनायी थी. इस खबर के बाद देश के लोग मायूस हो गये थे लेकिन मोदी सरकार की मेहनत काम आई और सभी कतर की जेल से रिहा करा लिये गये. यह भारत और मोदी सरकार की एक बड़ी जीत है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.