‘बैस्टिल डे’ परेड से पहले भारतीय सेना ने राफेल के साथ पेरिस में बिखेरा जलवा, फ्रांसीसी सैनिक संग किया अभ्यास

2

नई दिल्ली : फ्रांस में आगामी 14 जुलाई को आयोजित होने वाली बैस्टिल डे परेड से पहले बुधवार को भारतीय सेना के जवानों ने लड़ाकू विमान राफेल के साथ अपना जलवा बिखेरा. हालांकि इस परेड के दौरान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी विशिष्ट अतिथि के तौर पर मौजूद रहेंगे. मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, फ्रांस के पेरिस में बैस्टिल डे परेड के आयोजन से पहले भारतीय और फ्रांसीसी वायुसेना ने राफेल के साथ अभ्यास किया. भारतीय नौसेना के कमांडर प्रतीक कुमार ने कहा कि यह न केवल सशस्त्र बलों के लिए बल्कि पूरे भारत के लिए एक बड़ी भावना है कि हमने फ्रांस सरकार के प्रतिष्ठित कार्यक्रम के लिए बैस्टिल डे परेड में प्रतिनिधित्व किया है. हमें खुशी है कि हम सेना, नौसेना और वायु सेना की त्रि-सेवा टुकड़ी के हिस्से के रूप में यहां हैं. परेड में सेना का बैंड भी मार्च पास्ट करेगा.

‘सारे जहां से अच्छा हिंदोस्तां हमारा’ की धुन पर मार्च

भारतीय वायुसेना की ओर से बुधवार को जारी किए गए एक बयान में कहा गया है कि 14 जुलाई को आयोजित होने वाली बैस्टिल डे परेड से पहले भारतीय और फ्रांसीसी वायुसेना ने राफेल के साथ आसमान में अभ्यास किया. भारतीय वायुसेना ने कहा कि पेरिस में भारतीय त्रि-सेवा दल ने 14 जुलाई को बैस्टिल दिवस परेड के लिए फ्रांस में अभ्यास सत्र आयोजित किया. इस दौरान दल ने ‘सारे जहां से अच्छा हिंदोस्तां हमारा’ की धुन पर मार्च निकाला.

फ्रांस में क्यों मनाया जाता है बैस्टिल डे परेड

बताते चलें कि फ्रांस में बैस्टिल डे को ‘फेटे नेशनले फ्रांसेइस’ या राष्‍ट्रीय दिवस के तौर पर भी जाना जाता है. 14 जुलाई 1789 में हुई फ्रांसीसी क्रांति के दौरान बैस्टिल के किले पर हमला हुआ था. बैस्टिल डे को उस हमले की याद के तौर पर मनाया जाता है. इस बार बैस्टिल डे के मौके पर सेना की परेड में भारतीय सेनाओं के तीनो विंग की 269 सैनिकों वाली टुकड़ी फ्रांस की सेनाओं के साथ मार्च करते हुए दिखाई देगी. भारत और फ्रांस की सेनाओं के बीच प्रथम विश्व युद्ध से ही आपसी संपर्क जारी है. इस युद्ध में लाखों भारतीय सैनिकों ने हिस्‍सा लिया था. इनमें से करीब 74,000 सैनिकों ने कीचड़ भरी खाइयों में लड़ाई लड़ी थी.

भारत-फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी के 25 साल पूरे

मीडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस साल भारत और फ्रांस अपनी रणनीतिक साझेदारी के 25 वर्ष पूरे होने का जश्‍न मना रहे हैं. फ्रांस के बैस्टिल परेड से पहले दोनों देशों की सेनाएं संयुक्त अभ्यासों में हिस्सा ले रही हैं और अपने-अपने अनुभवों को भी साझा कर रही हैं. पिछले कुछ वर्षों के दौरान भारत और फ्रांस विश्वसनीय रक्षा भागीदार बन गए हैं. भारतीय सेना की टुकड़ी में 77 मार्चिंग सैनिक और बैंड के 38 सदस्य भी शामिल हैं.

पीएम मोदी होंगे विशिष्ट अतिथि

बता दें कि फ्रांस की राजधानी पेरिस में आगामी 14 जुलाई को होने वाली बैस्टिल डे परेड के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विशिष्ट अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया है. फ्रांस के राष्ट्रीय दिवस बैस्टिल डे के मौके पर आयोजित होने वाली परेड में भारतीय सेना के तीनों विंग की टुकड़ियों को शामिल किया गया है. पिछले नौ जुलाई को पेरिस में जब रिहर्सल मार्च निकाला गया, तो वहां पर उपस्थित प्रशासनिक अधिकारी और स्थानीय गणमान्य लोगों ने भारतीय सेना के जवानों का गर्मजोशी से स्वागत किया.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.