भारत वसुधैव कुटुंबकम के सिद्धांत को मानता है: केंद्रीय मंत्री

0 62

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी ने कहा कि भारत वसुधैव कुटुंबकम के सिद्धांत को मानता है। पूरे विश्व को एक परिवार की तरह देखता है। किसी देश के बारे में गलत नहीं सोचता है। न ही किसी देश के खिलाफ साजिश करने में विश्वास रखता है।

नए दिल्ली (दिल्ली न्यूज़24) राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) का 36वां स्थापना दिवस समारोह शुक्रवार को मानेसर स्थित ट्रेनिंग सेंटर में शारीरिक दूरी का ध्यान रखते हुए मनाया गया। समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी पहुंचे जबकि अध्यक्षता एनएसजी के महानिदेशक एसएस देसवाल ने की। इस मौके पर एनएसजी के 19 वीर शहीदों को समर्पित शौर्य नामक पुस्तक का भी विमोचन किया गया। साथ ही एनएसजी के कई जवानों को पुलिस पदक व अन्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

समारोह को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी ने कहा कि भारत वसुधैव कुटुंबकम के सिद्धांत को मानता है। पूरे विश्व को एक परिवार की तरह देखता है। किसी देश के बारे में गलत नहीं सोचता है। न ही किसी देश के खिलाफ साजिश करने में विश्वास रखता है। अगर कोई नुकसान पहुंचाने की साजिश रचता है वैसी स्थिति में देश निर्णायक जवाब देता है।

देश किसी भी स्थिति का बेहतर तरीके से सामना करने में सक्षम है। उन्होंने एनएसजी के बारे में कहा कि किसी भी परिस्थिति का मुकाबला करने में यह बल सक्षम है। कई बार इसका परिचय जवानों ने दिया है। यह बल नवीनतम हथियारों एवं अन्य उपकरणों से लैस है। महानिदेशक एसएस देसवाल ने काउंटर टेरेरिज्म, काउंटर हाइजैकिंग, अति संवेदनशील विशिष्ट लोगों की सुरक्षा को लेकर एनएसजी किस तरह प्रयासरत है, इस बारे में विस्तृत जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि एनएसजी विश्वस्तरीय बल है। त्रुटि शून्य है। भविष्य में भी एनएसजी सौंपे गए किसी भी कार्य को करने के लिए हमेशा तत्पर रहेगी। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में किए गए प्रयासों के बारे में महानिदेशक ने कहा कि अरावली पहाड़ी क्षेत्र में जवानों के द्वारा दो लाख से अधिक पौधे पिछले कुछ महीनों के दौरान लगाए गए हैं