सीआइएसएफ जवान की तत्परता से कैसे बची मेट्रो के एक यात्री की जान

0 81

घिटोरनी मेट्रो स्टेशन पर एक युवक अचानक बेहोश हो गया तो केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (Central Industrial Security Force ) के 2 जवानों ने अपनी समझदारी दिखाते हुए प्राथमिक उपचार देकर यात्री की जान बचा ली। पीड़ित का नाम एएम शेख है।

नई दिल्ली (दिल्ली न्यूज़24) दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) के कर्मचारियों के साथ यहां पर तैनात हर कोई लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहता है, खासकर तैनात स्टाफ। इसका ताजा नमूना रविवार शाम को उस समय देखने को मिला जब दिल्ली के एक मेट्रो स्टेशन पर एक शख्स बेहोश हो गया। इसके बाद यहां पर तैनात सीआइएसएफ के 2 जवानों ने तत्परता दिखाते हुए उसकी जान बचा ली। पूरा मामला घिटोरनी मेट्रो स्टेशन का है।

मिली जानकारी के मुताबिक, रविवार शाम को 6 बजे के आसपास घिटोरनी मेट्रो स्टेशन पर एक युवक अचानक बेहोश हो गया तो केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (Central Industrial Security Force ) के 2 जवानों ने अपनी समझदारी दिखाते हुए प्राथमिक उपचार देकर यात्री की जान बचा ली। पीड़ित का नाम एएम शेख है। इसके बाद युवक की मदद करने वाले 2 जवानों की जमकर तारीफ हो रही है। इनमें से एक का नाम मनोज कुमार है।

घटनाक्रम के मुताबिक, घिटोरनी मेट्रो स्टेशन पर एएम शेख नाम के एक यात्री स्टेशन के पास अचानक बेहोश होकर गिर गए। इसके बाद यहां यात्रियों में हड़कंप मच गया। इस बीच शोर सुनकर वहीं नजदीक ही मौके पर मौजूद सीआइएसएफ के जवान मनोज कुमार (Constable Monoj Kumar of CISF) सतर्क हो गए। उन्होंने अपने अनुभव से .यह जान लिया कि एएम शेख नाम के शख्स को दिल का दौरा पड़ा है। इसके बाद मनोज ने ततक्ला एएम शेख को सीपीआर (कार्डियो-पल्मनरी रिससिटेशन) थेरेपी देकर उनकी जान बचाई। सीआइएसएफ के दो जवानों की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ हो रही है। बता दें कि सीआइएसएफ ने 14 हजार जवानों को सीपीआर का प्रशिक्षण दिया है, ताकि ऐसे हालात में वह लोगों की मदद कर उनकी जान भी बचा सकें।

इस पूरी घटना के बाबत सीआइएसएफ ने आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि बिना समय गंवाए CISF कॉन्स्टेबल मनोज कुमार ने सभी एहतियाती उपायों को देखते हुए यात्री को कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन देना शुरू कर दिया। इसके बाद यात्री ने होश में आ गया।