No Confidence Motion : पीएम मोदी से कांग्रेस ने पूछे तीखे सवाल,अबतक मणिपुर क्यों नहीं गये? कब तोड़ेंगे मौनव्रत

51

नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ लाये गये अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत कांग्रेस के गौरव गोगोई ने की, हालांकि पहले ऐसी चर्चा थी कि राहुल गांधी अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत करेंगे. लेकिन कांग्रेस के सांसद तरुण गोगोई ने चर्चा की शुरुआत की, जो असम से सांसद हैं. अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कांग्रेस की ओर से गौरव गोगोई ने कहा कि यह अविश्वास प्रस्ताव लाना हमारी मजबूरी है. उन्होंने कहा कि मुद्दा संख्या बल का नहीं बल्कि मणिपुर के लिए इंसाफ का है. मणिपुर जल रहा है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौनव्रत पर हैं.

डबल इंजन की सरकार बेकार

गौरव गोगोई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पर तीखे हमले करते हुए तीन सवाल पूछे. गौरव गोगोई ने कहा कि मणिपुर में उनकी डबल इंजन की सरकार बेकार है. वे जनता के हित में काम नहीं कर रही है. प्रदेश हिंसा की आग में जल रहा है, अबतक 150 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं. स्कूल बंद हैं, इंटरनेट बाधित है. उन्होंने कहा कि मणिपुर के युवा उनसे न्याय मांगते हैं. आखिर वे मणिपुर पर चुप्पी क्यों साधकर रखे हैं. हम मणिपुर मुद्दे पर उनकी चुप्पी तोड़ने के लिए यह अविश्वास प्रस्ताव लेकर आये हैं.

बीरेन सिंह अबतक पद पर क्यों बने हुए?

गौरव गोगोई ने लोकसभा में सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा करते हुए पीएम मोदी से सवाल किया कि आखिर क्यों प्रधानमंत्री ने मणिपुर का दौरा नहीं किया. उन्होंने पीएम से यह सवाल भी किया कि मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह को पद से क्यों नहीं हटाया गया जबकि चुनावी राज्यों खासकर गुजरात और उत्तराखंड में मुख्यमंत्री बदले गये.

मणिपुर आज इंसाफ मांग रहा 

गौरव गोगोई ने यह दावा भी किया कि प्रधानमंत्री मौन रहना चाहते हैं क्योंकि उन्हें सिर्फ अपनी छवि से लगाव है और वह अपनी सरकार की विफलताओं को सामने नहीं आने देना चाहते. कांग्रेस सांसद ने कहा, मैं इस अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने के लिए ‘इंडिया’ गठबंधन के दलों का आभार प्रकट करता हूं. गौरव गोगोई ने कहा कि यह अविश्वास प्रस्ताव हम मणिपुर के लिए लाए हैं. आज मणिपुर इंसाफ मांगता है, मणिपुर के युवा, महिलाएं इंसाफ चाहते हैं. उन्होंने दावा किया कि अगर आज मणिपुर जल रहा है तो भारत जल रहा है. अगर मणिपुर में आग लगी है, मणिपुर विभाजित हुआ तो भारत में आग लगी है, भारत विभाजित हुआ है.

पीएम का संदेश मणिपुर के लोगों के लिए जरूरी

कांग्रेस नेता ने कहा, हमारी मांग थी कि देश के मुखिया होने के नाते प्रधानमंत्री बयान दें और मणिपुर के लोगों को यह संदेश दिया जाए कि दुख की घड़ी में हम मणिपुर में उनके साथ थे. लेकिन प्रधानमंत्री मौनव्रत पर हैं और कुछ मंत्री बोलना चाहते हैं. लेकिन मैं माफी के साथ यह कहना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री के संदेश में जो बात होगी, जो प्रभाव होगा वह किसी मंत्री या सांसद के संदेश में नहीं होगा, इसलिए हम प्रधानमंत्री का वक्तव्य चाहते हैं.

मणिपुर पर बोलने में पीएम मोदी को 80 दिन लगे

मणिपुर पर पीएम मोदी ने बोलने में 80 दिन लगा दिये और जब बोले तो सिर्फ 30 सेकेंड के लिए बोला. आखिर क्यों? उन्होंने कहा, मणिपुर में कोई पहली बार हिंसा नहीं हुई है. लेकिन समाज के दो वर्गों के बीच बंटवारा हमने कभी नहीं देखा था. कांग्रेस नेता ने कहा, आज इस राजनीति से दो मणिपुर बन गए हैं. मैं पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का संदेश मणिपुर के मुख्यमंत्री को देना चाहता हूं कि राजधर्म निभाया जाए.

प्रधानमंत्री को सिर्फ अपनी छवि से लगाव

उन्होंने दावा किया कि अगर मणिपुर में वीडियो वायरल नहीं होता तो प्रधानमंत्री नहीं बोलते चुप्पी साधे रहते. उन्होंने आरोप लगाया, प्रधानमंत्री को छवि से लगाव है, इसलिए वह मौन रहें. प्रधानमंत्री मोदी के मौन रहने का दूसरा कारण केंद्रीय गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार विफल रहे हैं. कांग्रेस नेता के अनुसार, जाति, समुदाय और धर्म के आधार पर बंटवारा किया जाएगा तो पूर्वोत्तर में समस्याओं का समाधान नहीं होगा.

देश में शांति बहाल होना जरूरी

गोगोई ने कहा, यह कैसा राष्ट्रवाद है जो देश से ज्यादा सत्ता को महत्व देता है? उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सदन में आकर बयान दें और मणिपुर का दौरा करें और अपने साथ सभी दलों के लोगों को लेकर आएं. गोगोई ने कहा, आज आप भाजपा जितना भी नफरत फैलाएं, हम राहुल गांधी जी के नेतृत्व में जगह-जगह मोहब्बत की दुकान खोलेंगे. हमारा राष्ट्रवाद यह है कि देश में शांति बहाल हो और नफरत की दुकान बंद हो.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.