Himachal Political Crices: ‘सुखविंदर सिंह सुक्खू बने रहेंगे मुख्यमंत्री’

10

Himachal Pradesh

Himachal Political Crices:हिमाचल प्रदेश में राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के विधायकों के ‘क्रॉस वोटिंग’ करने के बाद राजनीतिक संकट पैदा हो गया है. जिसके बाद हिमाचल प्रदेश की सुखविंदर सिंह सुक्खू सरकार पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं. हालांकि बागी विधायकों के साथ बैठक के बाद पर्यवेक्षक और कर्नाटक के डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार ने मीडिया के साथ बातचीत में कहा कि सुक्खू सरकार पूरी तरह से सेफ है और अपना कार्यकाल पूरा करेगी. उन्होंने यह भी कहा कि सुक्खू मुख्यमंत्री बने रहेंगे.

Himachal Political Crices:सीएम सुक्खू ने ली राज्सभा चुनाव में अभिषेक मनु सिंघवी की हार की जिम्मेदारी

राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस की हार की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ले ली है. इस बात की जानकारी खुद डीके शिवकुमार ने दी. कांग्रेस के केंद्रीय पर्यवेक्षक डीके शिवकुमार ने गुरुवार को कहा कि हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने राज्यसभा चुनाव में पार्टी के नेता अभिषेक मनु सिंघवी की हार की जिम्मेदारी ली है. मालूम हो चुनाव में कांग्रेस के 6 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की. जिससे कांग्रेस उम्मीदवार अभिषेक मनु सिंघवी हार गए. जबकि बीजेपी उम्मीदवार हर्ष महाजन को बड़ी जीत मिली. दोनों उम्मीदवारों को 34-34 वोटें मिली थी, जिसके बाद पर्ची के जरिए फैसला किया गया.

केंद्रीय पर्यवेक्षकों ने बागी विधायकों के साथ बात की और संकट को टाला

डीके शिवकुमार ने कहा कि केंद्रीय पर्यवेक्षकों ने सुक्खू, पार्टी विधायकों और प्रदेश इकाई की प्रमुख प्रतिभा सिंह से बात की है और सभी मतभेद दूर कर लिए गए हैं. पार्टी पर्यवेक्षक भूपेन्द्र हुड्डा के साथ यहां मीडिया को संबोधित करते हुए शिवकुमार ने कहा कि कांग्रेस विधायकों के साथ एक-एक कर बैठक और सुक्खू व प्रदेश कांग्रेस प्रमुख प्रतिभा सिंह के साथ बातचीत के बाद मतभेद दूर हो गए हैं. उन्होंने यह भी कहा कि सभी आंतरिक मामलों को सुलझाने के लिए एक समन्वय समिति बनाने का निर्णय लिया गया है और कोई भी नेता से प्रेस से बात नहीं करेगा.

विधानसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस के 6 विधायकों को अयोग्य घोषित किया

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने राज्य की एकमात्र राज्यसभा सीट के लिए हाल ही में हुए चुनाव में ‘क्रॉस वोटिंग’ करने के लिए गुरुवार को छह कांग्रेस विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया. अयोग्य घोषित किए गए विधायकों में राजेंद्र राणा, सुधीर शर्मा, इंद्रदत्त लखनपाल, देवेंद्र कुमार भुट्‌टो, रवि ठाकुर और चैतन्य शर्मा शामिल हैं. बागी विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने के बाद सदन में कुल विधायकों की संख्या 68 से घटकर 62 रह गई है. इससे कांग्रेस विधायकों की संख्या 40 से घटकर 34 हो गई है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.