Happy Janmashtami 2020: कोरोना काल में फीकी रहेगी जन्माष्टमी की धूम, मंदिरों में ‘नो एंट्री’

0 92

नई दिल्ली,  इस साल के अधितकर सारे त्योहार कोरोना की वजह से उतने जोश से नहीं बन सके, जैसे की बनते थे। इस वक्त भारत में कृष्ण जन्मोत्सव की धूम है, लेकिन यह पर्व भी फीका जाता दिख रहा है। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को लेकर लोगों में उत्साह है, मगर कहीं जगहों पर मंदिर बंद रहेंगे। इस बार मथुरा समेत कई जगह पर प्रमुख मंदिरों में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर प्रतिबंध है। ऐसे में श्रद्धालुओं के पास अपने घरों में त्योहार को मनाने के कोई और रास्ता नहीं है।

कृष्ण भगवान का जन्म मथुरा में हुआ था। कृष्ण जन्म भूमि मथुरा का एक प्रमुख धार्मिक स्थान है जहां हिन्दू धर्म के अनुयायी कृष्ण भगवान का जन्म स्थान मानते हैं। भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि का न केवल भारत में महत्व है बल्कि दुनिया में जिला मथुरा भगवान श्रीकृष्ण के जन्मस्थान से ही जाना जाता है। ऐसे में अधिक से अधिक लोग भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि पर ही जाकर उनको निहारना चाहते हैं, लेकिन कोरोना संकट में बाकी सभी पर्व की तरह यह त्योहार भी फीका रह जाएगा।

इस बार भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव यानी जन्माष्टमी 11 अगस्त और 12 अगस्त को पड़ रही है। बाल कृष्ण का जन्म भाद्रपद कृष्ण अष्टमी को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था, लेकिन इस बार तिथि और नक्षत्र में थोड़ा अंतर देखने को मिल रहा है। इस स्थिति में जन्माष्टमी का पर्व पूरे देश में दो दिन मनाया जाएगा। हालांकि 12 अगस्त का दिन जन्माष्टमी व्रत के लिए सही माना जा रहा है। तो ऐसे में बड़े रूप में 12 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाई जाएगी, लेकिन सिर्फ घरों में ही।