Adani Group का Market Cap 15 लाख करोड़ के निकला पार, सुप्रीम कोर्ट के फैसले से 16% तक चढ़े भाव

10

Adani Group Share Price: Adani Group Market Cap: भारतीय उद्योगपति गौतम अदाणी (Gautam Adani) के लिए साल 2023 सबसे मुश्किलों भरा रहा. हालांकि, साल 2024 उनके लिए खुशियों की सौगात लेकर आया है. सुप्रीम कोर्ट ने आज अडानी-हिंडनबर्ग विवाद से जुड़े मामले में बड़ा फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने मामले में सुनावई करते हुए सेबी के जांच को सही ठहराया है. साथ ही, अन्य दो मामलों की जांच के लिए तीन महीनें का वक्त दिया है. कोर्ट ने कहा कि कुल 22 मामलों में से 20 की जांच सेबी ने पूरी कर ली है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद, ग्रुप के शेयरों में तूफानी तेजी देखने को मिल रही है. इसके बाद, अदाणी ग्रुप का मार्केट कैप 15 लाख करोड़ के पार निकल गया है. बता दें कि अमेरिकी शॉर्ट सेलर फर्म हिंडनबर्ग के द्वारा अदाणी ग्रुप पर पिछले साल 24 जनवरी को गंभीर आरोप लगाते हुए एक रिपोर्ट जारी की गयी थी. इस मामले से जुड़े एक अहम अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने आज फैसला दिया है. इससे पहले कोर्ट ने 24 नवंबर 2024 को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. फैसले से अदाणी ग्रुप के स्टॉक में करीब 10 से 16 प्रतिशत की तेजी देखने को मिली है. शेयर बाजार के दोनों सूचकांकों में अदाणी ग्रुप के 10 कंपनियों के स्टॉक में तेजी देखने को मिली है. मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 2 मार्च 2023 को जांच का जिम्मा सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) को दिया था. पूरे मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने छह सदस्यों की एक्सपर्ट समिति का भी गठन किया था. इस समिति की अध्यक्षता पूर्व जस्टिस एएम सप्रे कर रहे थे.

कंपनी/शेयर शुरुआती कारोबार में 10 बजे का भाव

अदाणी एंटरप्राइजेज 3165 (7.95%)

अदाणी ग्रीन 1730.65 (7.99%)

अदाणी पोर्ट्स 1138.70 (5.70%)

अदाणी पावर 544.60 (4.98%)

अदाणी एनर्जी सॉल्यूशंस 1230.45 (15.99%)

अदाणी विल्मर 394.50 (7.53%)

अदाणी टोटल गैस 1100.65 (10.00%)

एसीसी 2330.25 (2.75%)

अंबुजा सीमेंट 547.00 (3.15%)

एनडीटीवी 300.60 (10.58%)

अदाणी समूह ने हिंडनबर्ग के आरोपों को किया था खारिज

हिंडनबर्ग रिसर्च की रिपोर्ट आने के बाद से अदाणी समूह की कंपनियों के शेयरों में जोरदार गिरावट आई है. रिपोर्ट में अदाणी समूह पर शेयरों में हेराफेरी का आरोप लगाया गया है. हालांकि, समूह ने इन आरोपों को पूरी तरह से खारिज कर दिया है. इसके कारण, उनकी कुल संपत्ति का 30 प्रतिशत से अधिक का नुकसान हुआ. इस दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी ने उन्हें दौलत के मामले में उन्हें पीछे कर दिया.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.