केंद्र सरकार ने गैंगस्टर गोल्डी बराड़ को आतंकवादी घोषित किया, UAPA के तहत की गई कार्रवाई

12

कनाडा में रहते हुए भारत में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देने वाले गैंगस्टर सतविंदर सिंह उर्फ सतिंदरजीत सिंह उर्फ गोल्डी बराड़ पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ा एक्शन लिया है. सरकार ने बराड़ को गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 UAPA के तहत आतंकवादी घोषित किया है.

सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस का मास्टरमाइंड

गोल्डी बराड़ को पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस का मास्टरमाइंड माना जाता है. बराड़ के इशारे पर ही लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गुर्गों ने मूसेवाला की हत्या की थी. कनाडा स्थित ब्रम्पटन के रहने वाले गोल्डी बराड़ का संबंध प्रतिबंधित आतंकवादी समूह बब्बर खालसा इंटरनेशनल से है.

सरकार ने लांडा को भी आतंकवादी घोषित किया

इससे पहले केंद्र सरकार ने 2023 के आखिरी दिन प्रतिबंधित संगठन ‘बब्बर खालसा इंटरनेशनल’ के कनाडा में रह रहे सदस्य लखबीर सिंह उर्फ लांडा को भी आतंकवाद रोधी कानून के तहत आतंकवादी घोषित किया था. लांडा 55वां व्यक्ति है जिसे इस कानून के तहत आतंकवादी घोषित किया गया है. लांडा पंजाब पुलिस की खुफिया शाखा के मुख्यालय पर मई 2022 में ग्रेनेड हमले में शामिल था. इसके अलावा वह देश में आतंकवादी कृत्यों को अंजाम देने के लिए सीमा पार से विस्फोटकों, हथियारों और आधुनिक हथियारों की आपूर्ति में भी शामिल है.

पंजाब के तरन तारन जिले में हरिके का रहने वाला है लांडा

लांडा पंजाब के तरन तारन जिले में हरिके का रहने वाला है और अभी कनाडा में एल्बर्ट के एडमोन्टन शहर में रहता है. वह प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल का कार्यकर्ता है. वह पंजाब और देश के अन्य हिस्सों में आतंकवादी मॉड्यूल तैयार करने, वसूली, हत्याओं, आईईडी लगाने, हथियारों और मादक पदार्थ की तस्करी तथा आतंकवादी कृत्यों के लिए पैसों के लेनदेन से जुड़े कई आपराधिक मामलों में शामिल रहा है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.