Assam Flood: असम में बाढ़ की स्थिति गंभीर, 108 गांव पानी में डूबे, 1.2 लाख लोग प्रभावित

74

असम में बाढ़ की स्थिति बदतर हो गई है. सैलाब से 10 जिलों के तकरीबन 1.2 लाख लोग प्रभावित हैं. बाढ़ की वजह से 108 गांव पानी में डूबे हुए हैं. दरसअल असम और पड़ोसी देश भूटान में पिछले कुछ दिनों में हुई मूसलाधार बारिश के बाद पगलादिया नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है, जिससे बाढ़ की स्थिति बन गयी है. पिछले 24 घंटों में नए इलाकों में पानी भर गया है.

असम के नलबाड़ी जिले में बाढ़ की स्थिति खराब

असम के नलबाड़ी जिले में बाढ़ की स्थिति खराब हो गई है. 6 राजस्व क्षेत्रों के तहत लगभग 45,000 लोग और 108 गांव वर्तमान में पानी में डूबे हुए हैं. इसी तरह मोइरारंगा, बटाहघिला गांव के लगभग 200 परिवार प्रभावित हुए हैं और अधिकांश परिवार अब सड़कों और तटबंधों पर अस्थायी तंबू बनाकर शरण ले रहे हैं.

बारिश के कारण घर क्षतिग्रस्त होने पर अपनी आंसू नहीं रोक पाये 70 वर्षीय राजबोंगशी

असम के नलबाड़ी के मोइरारंगा गांव में लगातार बारिश के कारण घर क्षतिग्रस्त होने से 70 वर्षीय ज्योतिष राजबोंगशी अपनी आंसू नहीं रोक पाये. उन्होंने कहा, इस बाढ़ के कारण मैंने अपना सब कुछ खो दिया है. घर का सारा सामान क्षतिग्रस्त हो गया है. मैं अब अपनी पत्नी के साथ इस तटबंध पर रह रहा हूं. हम घर से कुछ भी नहीं निकाल सके.

असम में बाढ़ से 1,19,800 लोग प्रभावित

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की दैनिक बाढ़ रिपोर्ट के मुताबिक, बक्सा, बरपेटा, दरांग, धेमाजी, धुब्री, कोकराझार, लखीमपुर, नलबाड़ी, सोनितपुर और उदलगिरी जिलों में बाढ़ की वजह से 1,19,800 लोग प्रभावित हैं. बक्सा में 26500 और लखीमपुर में 25000 से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. प्रशासन पांच जिलों में 14 राहत शिविर संचालित कर रहा है जहां 2091 लोगों ने शरण ली हुई है और यह पांच जिलों में 17 राहत वितरण केंद्र भी चला रहा है. सेना, अर्धसैनिक बल, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, दमकल एवं आपात सेवा, नागरिक प्रशासन, एनजीओ और स्थानीय लोगों ने अलग-अलग स्थानों से 1280 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है.

बाढ़ से कृषि भूमि को नुकसान

10,591.81 हेक्टेयर कृषि भूमि को नुकसान पहुंचा है. एएसडीएमए ने कहा कि बक्सा, बारपेटा, सोनितपुर, धुबरी, डिब्रूगढ़, कामरूप, कोकराझार, लखीमपुर, मजूली, नगांव, दक्षिण सलमारा और उदलगुरी में बड़े पैमाने पर भूमि कटाव देखा गया है. दीमा हसाओ और कामरूप मेट्रोपोलिटन में भारी बारिश की वजह से भूस्खलन हुआ है. बक्सा, उदलगुरी, सोनितपुर, दरांग, बोंगईगांव, चिरांग, धुबरी, गोलपारा, कामरूप, नागांव, नलबाड़ी और बारपेटा में बाढ़ के पानी से तटबंध, सड़कें, पुल और अन्य बुनियादी ढांचे क्षतिग्रस्त हो गए हैं.

असम में भारी बारिश को लेकर रेड अलर्ट जारी

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने ‘रेड अलर्ट’ जारी किया और अगले कुछ दिनों में असम के कई जिलों में ‘बहुत भारी’ से ‘अत्यधिक भारी’ बारिश का अनुमान जताया.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.