दिल्ली में ‘साजिश का बाढ़’, AAP ने की मुख्य सचिव समेत कई अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग, लगाया गंभीर आरोप

61

Delhi Flood: यमुना नदी में बढ़े जलस्तर के कारण पूरी दिल्ली में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. संभावित बाढ़ का खतरा सुप्रीम कोर्ट सहित लुटियंस दिल्ली के तमाम वीआईपी क्षेत्रों पर भी मंडरा रहा है. कई इलाकों में तो घरों के अंदर भी बाढ़ का पानी घुस गया है. पानी-पानी हो चुके दिल्ली में कामकाज पूरी तरह प्रभावित है. आम लोगों का भी जीवन बेपटरी हो गया है. वहीं, बाढ़ से खतरों से पूरी दिल्ली दो-चार हो रही है. इधर दिल्ली सरकार में मंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना को पत्र लिखकर अधिकारियों पर कार्रवाई करने की मांग की है. भारद्वाज ने चीफ सेक्रेटरी नरेश कुमार, डिविजनल कमिश्नर अश्विनी कुमार और सिंचाई सचिव आशीष कुंद्रा के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है.

मंत्री सौरभ भारद्वाज ने की कार्रवाई की मांग
दिल्ली के मंत्री और आम आदमी पार्टी नेता सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली के एलजी को पत्र लिखकर डब्ल्यूएचओ बिल्डिंग रेगुलेटर की मरम्मत के लिए रात में एनडीआरएफ और आर्मी इंजीनियर रेजिमेंट को बुलाने के दो मंत्रियों के निर्देशों का पालन नहीं करने पर तीन नौकरशाहों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने निर्देशों की अनदेखी की जिससे भारत के सर्वोच्च न्यायालय सहित दिल्ली के वीआईपी इलाकों में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई. यदि मंत्रियों के निर्देशों का पालन किया गया होता और पिछली रात सेना/एनडीआरएफ को बुलाया गया होता तो बाढ़ से बचा जा सकता था.सौरभ भारद्वाज अपने पत्र में लिखा की यह सर्वोच्च न्यायालय के खिलाफ साजिश थी.

अफसरों ने किया मना- सौरभ भारद्वाज
इसी कड़ी में आम आदमी पार्टी के नेता सौरभ भारद्वाज ने बताया कि उन्हें पता चला था कि पानी का एक रेगुलेटर टूट गया था. ऐसे में अगर पानी वापस लौटा तो सुप्रीम कोर्ट समेत दिल्ली के कई और इलाकों में पानी भर जाएगा. इसको लेकर स्थिति का जायजा भी लिया. भारद्वाज ने कहा कि इसके बाद मैने विभाग के आयुक्त को एनडीआरएफ को बुलाने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने इसके लिए मना कर दिया. सौरभ भारद्वाज ने कहा कि उन्होंने पूरे शिष्टाचार के साथ दिल्ली के एलजी वीके सक्सेना घटना की जानकारी देते हुए कहा कि एनडीआरएफ की टीम तैनात करने में देरी हुई. बता दें, सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली के एलजी से अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है.

बीजेपी की साजिश के चलते दिल्ली में बाढ़ आई- AAP
दिल्ली के कैबिनेट मंत्री सौरभ भारद्वाज ने आज यानी शनिवार को आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली केंद्र और हरियाणा की सरकारों ने जानबूझकर साजिश के तहत दिल्ली की ओर पानी छोड़ा, जिसके कारण दिल्ली में बाढ़ आई.उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि बीते तीन- 4 दिनों से दिल्ली में भारी बारिश नहीं हुई है. इसके बाद भी यमुना नदी का जल स्तर 208.66 मीटर तक पहुंच गया. भारद्वाज ने कहा कि हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से पश्चिमी नहर, पूर्वी नहर और यमुना में पानी छोड़ा जाता है. उन्होंने कहा कि नौ से 13 जुलाई के बीच साजिश के तहत नहर से सिर्फ यमुना दिल्ली की ओर पानी छोड़ा गया. पश्चिमी और पूर्वी नहर में पानी नहीं छोड़ा गया. इससे पहले दिल्ली के सीएम और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी केन्द्र और हरियाणा सरकार पर लगाए थे.

यमुना में घट रहा है जलस्तर- दिल्ली मंडलायुक्त
इधर, बीते तीन-चार दिनों से दिल्ली में बारिश नहीं होने और हरियाणा से पानी नहीं छोड़े जाने के कारण दिल्ली में यमुना नदी का जलस्तर घट रहा है. मंडलायुक्त अश्विनी कुमार ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि दिल्ली के बाढ़ग्रस्त इलाकों में भी हालात में सुधार हो रहा है. उन्होंने कहा कि दिल्ली के ऊपरी जलग्रहण क्षेत्रों में भारी बारिश के बाद यमुना में जलस्तर खतरे के निशान के पार चला गया जिससे कई इलाके जलमग्न हो गए और निचले इलाकों में रह रहे हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाना पड़ा था. हालांकि हाल के एक दो दिनों में यमुना में जलस्तर में कमी आयी है. वहीं, उन्होंने बाढ़ की स्थिति पर काबू पाने के लिए अथक रूप से काम कर रहे अधिकारियों पर निर्वाचित प्रतिनिधियों की ओर से निशाना साधे जाने पर भी नाखुशी जाहिर की. उन्होंने कहा कि अधिकारियों पर निराधार आरोप नहीं लगाए जाने चाहिए.

208.66 मीटर से 207.43 मीटर पर पहुंचा जलस्तर
गौरतलब है कि बीते तीन दिन तक जलस्तर लगातार बढ़ने के बाद कल यानी शुक्रवार से जलस्तर में कमी आनी शुरू हो गई है. आज यानी शनिवार को सुबह 10 बजे तक जलस्तर कम होकर 207.43 मीटर पर पहुंच गया. गौरतलब है कि इससे पहले गुरुवार को रात आठ बजे यमुना का जलस्तर बढ़कर 208.66 मीटर तक पहुंच गया था. हालांकि, यमुना अब भी खतरे के निशान 205.33 मीटर से दो मीटर ऊपर बह रही है. वहीं, यमुना की बाढ़ का पानी सड़कों से कम होने के बीच राष्ट्रीय राजधानी में यातायात के लिए बंद कई सड़कें शनिवार को खोल दी गई हैं. वहीं, कुछ प्रमुख मार्ग अभी भी यातायात के लिए बंद हैं. अधिकारियों के मुताबिक, दिल्ली के बुलेवार्ड रोड, सर्विस रोड, रिंग रोड, चंदगीराम अखाड़ा से मुकरबा चौक और चंदगीराम अखाड़ा से आईपी कॉलेज तक दोनों मार्ग यातायात के लिए खोल दिए गए हैं.

भाषा इनपुट से साभार

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.