Fact Check: कोल्ड ड्रिंक में है इबोला वायरस? नये साल में इसे पीने से पहले जान लें सच

12

दिसंबर का महीना खत्म होने को है. अब हम नये साल में प्रवेश कर जाएंगे. नये साल के जश्न में लोग घूमने के साथ-साथ खाने पर ज्यादा फोकस करते हैं और खाने के बाद कोल्ड ड्रिंक पीना कई लोगों को पसंद है. इस बीच कोल्ड ड्रिंक को लेकर एक मैसेज सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल है. इस वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि भारत सरकार की ओर से नागरिकों को कुछ दिनों के लिए कोल्ड ड्रिंक पीने से परहेज करने की सलाह दी गई है, क्योंकि ये इबोला वायरस से संक्रमित है.

यह मैसेज को जब सोशल मीडिया यूजर अपने मोबाइल पर देख रहे हैं तो उनकी टेंशन बढ़ रही है. खासकर ऐसे लोगों की, जो कोल्ड ड्रिंक के लवर हैं. वे खाने के बाद इसे पीना पसंद करते हैं. अकसर आपने देखा होगा कि फास्ट फूट खाने के बाद लोग कोल्ड ड्रिंक पीना ज्यादा प्रीफर करते हैं. तो आइए जानते हैं कि इस वायरल मैसेज का आखिर सच क्या हैं. आखिर ये दावा किस हद तक सही है आइए जानते हैं फैक्ट चेक में…

कैसा मैसेज हो रहा है वायरल

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल तेजी से वायरल हो रहा है. इस मैसेज में लिखा कि कृपया कोल्ड ड्रिंक न पिएं…मैसेज में कई कंपनियों के नाम का जिक्र है. वायरल मैसेज में कहा गया है कि कोल्ड ड्रिंक में किसी एक कंपनी के वर्कर ने इबोला वायरल से संक्रमित ब्लड को इसमें इंजेक्ट कर दिया है. इसलिए इस मैसेज को सभी को फॉरवर्ड करें ताकि लोग सुरक्षित रह सकें, साथ ही इस वायरल मैसेज में नेशनल हेल्थ ऑफ इंडिया, भारत सरकार लिखा नजर आ रहा है.

पीआईबी फैक्ट चेक की ओर से क्या कहा गया?

जब इस मैसेज की पड़ताल की गई तो पीआईबी फैक्ट चेक ने इस वायरल मैसेज को फेक करार दिया. साथ ही पीआईबी ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर बयान जारी किया. पीआईबी फैक्ट चेक की ओर से कहा गया है कि इस तरह की कोई भी एडवाइजरी भारत सरकार की ओर से जारी नहीं की गई है. इस प्रकार से ये वायरल दावा पूरी तरह से झूठा साबित हो चुका है. साथ ही भारत सरकार की ओर से कोल्ड ड्रिंक न पीने और इबोला वायरस की पुष्टि से साफ इंकार किया है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.