Digital Media: बहुत जल्द टीवी को पीछे छोड़ेगा डिजिटल मीडिया

7

Digital media

Digital Media: एक समय था जब प्रिंट मीडिया अपने चरम पर था. फिर रेडियो का दौर आया उसके बाद आईसीटी के एडवेंट के बाद चीजें बदली और डिजिटल मीडिया का दौर आया. आपको जानकारी के लिए बता दें कि उद्योग मंडल फिक्की और ईवाई की मंगलवार को जारी संयुक्त रिपोर्ट में यह कहा गया है कि मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र में इस साल डिजिटल मीडिया 75,100 करोड़ रुपये के अनुमानित आकार के साथ जल्द ही टेलीविजन को पीछे छोड़ सकता है. देश के मीडिया और मनोरंजन (एम एंड ई) क्षेत्र में 2023 में 8.1 प्रतिशत की वृद्धि हुई और यह 2.32 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया. इसके 2024 में 2.55 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचने और 2026 तक तीन लाख करोड़ रुपये को पार करने की उम्मीद है. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘हमें उम्मीद है कि एम एंड ई क्षेत्र 2024 तक 10.2 प्रतिशत बढ़कर 2.55 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा. वहीं 2026 तक संचयी रूप से 10 प्रतिशत वृद्धि के साथ यह 3.1 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा.’’

2023-26 के बीच कुल 13.5 प्रतिशत की वृद्धि होने का अनुमान

हालांकि, 2023 में टेलीविजन 69,600 करोड़ रुपये के साथ सबसे बड़ा खंड रहा. लेकिन 2022 में 70,900 करोड़ रुपये के मुकाबले इसमें 1.83 प्रतिशत की गिरावट आई. जबकि, 2023 में डिजिटल मीडिया 65,400 करोड़ रुपये को पार कर गया और 2024 में लगभग 75,100 करोड़ रुपये पहुंच जाने की उम्मीद है. यह टेलीविजन मीडिया के 71,800 करोड़ रुपये के आंकड़े से अधिक है. रिपोर्ट के अनुसार, 2026 में डिजिटल मीडिया लगभग 95,500 करोड़ रुपये का होगा. इसमें 2023-26 के बीच संचयी रूप से 13.5 प्रतिशत की वृद्धि होने का अनुमान है.

डिजिटल मीडिया में इस उछाल के साथ एम एंड ई क्षेत्र की 10 प्रतिशत वृद्धि

वहीं टीवी मीडिया 76,600 करोड़ रुपये का होगा. यह डिजिटल मीडिया से करीब 20 प्रतिशत से कम होगा. फिक्की मीडिया एवं मनोरंजन समिति के चेयरमैन केविन वाज ने कहा, ‘‘डिजिटल मीडिया 2024 में उल्लेखनीय वृद्धि के लिए तैयार है. यह संभवत: टेलीविजन क्षेत्र को पीछे छोड़कर एम एंड ई क्षेत्र का अग्रणी खंड बन एजागा. अनुमान है कि डिजिटल मीडिया में इस उछाल के साथ एम एंड ई क्षेत्र की वृद्धि 10 प्रतिशत सालाना पहुंच जाएगी और यह 3.0 लाख करोड़ रुपये का पार कर जाएगा.’’

डिजिटल विज्ञापन संचयी रूप से 13.5 प्रतिशत बढ़कर 84,200 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा

इस मजबूत वृद्धि का कारण मजबूत डिजिटल बुनियादी ढांचा, ओटीटी (ओवर द टॉप) मंचों को व्यापक रूप से अपनाना, गेमिंग क्षेत्र में महत्वपूर्ण वृद्धि और उपभोक्ताओं के लिए लागत प्रभावी विकल्पों की उपलब्धता का बढ़ना है. रिपोर्ट में उम्मीद जताई गई है कि बेहतर संचालन व्यवस्था के साथ डिजिटल विज्ञापन संचयी रूप से 13.5 प्रतिशत बढ़कर 84,200 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा. रिपोर्ट के मुताबिक, इंटरनेट की पहुंच लगातार बढ़ने से ‘कनेक्टेड टीवी’ (स्मार्ट टीवी) में 50 प्रतिशमत वृद्धि दर्ज की गयी. इसमें कहा गया है, ‘‘ब्रॉडबैंड बाजार बढ़ रहा है और इसके ग्राहकों की संख्या 90.4 करोड़ पहंच गयी है…’’ भाषा इनपुट के साथ.

Also Read: लेनदेन शुल्क लगा तो ज्यादातर यूजर्स बंद कर देंगे UPI का इस्तेमाल, पढ़े पूरी रिपोर्ट

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.