दिल्ली में कब होगी आर्टिफिशियल बारिश? जानें पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने क्या कहा

36

दिल्ली के वायू प्रदूषण से वहां के लोग परेशान हैं. राजधानी की वायु गुणवत्ता बुधवार को भी गंभीर श्रेणी में रिकॉर्ड की गई. इस बीच दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि 2-3 दिनों तक हवा की गति में ठहराव रहेगा जिसके बाद हवा की गति बढ़ने की संभावना है. इससे (वायु प्रदूषण) सुधार देखा जा सकता है. आर्टिफिशियल बारिश को लेकर उन्होंने कहा कि अगले 2-3 दिन की स्थिति का निरीक्षण करने के बाद इस फैसले पर पहुंचा जा सकता है. यदि प्रदूषण का स्तर ‘गंभीर’+ श्रेणी की तरफ बढ़ता है तो निश्चित तौर पर सरकार इसपर निर्णय लेगी. गोपाल राय ने कहा कि अगले दो या तीन दिनों तक राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण की स्थिति देखी जाएगी और उसके बाद ही ऑड-इवन या आर्टिफिशियल बारिश पर फैसला लिया जाएगा. दिवाली के दो दिन बाद बुधवार सुबह दिल्ली की वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में रिकॉर्ड की गई.

देश की राजधानी दिवाली से कुछ दिन पहले बारिश के कारण दिल्ली को दमघोंटू प्रदूषण से थोड़ी राहत मिली थी, लेकिन अब हवा की गुणवत्ता फिर से खराब स्थिति में पहुंच चुकी है जो लोगों को परेशान कर रही है. दिल्ली की वायु गुणवत्ता बुधवार से शुक्रवार तक ‘बहुत खराब’ श्रेणी में रहने की संभावना व्यक्त की गई है. यहां चर्चा कर दें कि ऑड-ईवन नियम को 13 नवंबर से लागू किया जाना था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा ऑड-ईवन योजना की प्रभावकारिता पर सवाल उठाया गया जिसके बाद इसे रोकने का निर्णय लिया गया. ऑड-ईवन नियम की बात करें तो इससे सड़क पर कारों की संख्या कम हो जाती है. ऐसा इसलिए क्योंकि रजिस्ट्रेशन नंबर यदि ऑड के साथ समाप्त होती है तो उसे ऑड डेट पर चलाने की अनुमति प्रदान की जाती है. ऐसा ही इवन नंबर के साथ भी लागू होता है.

इससे पहले, दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने 20 नवंबर से पहले क्लाउड सीडिंग टेक्निक से आर्टिफिशियल बारिश कराने की बात कही थी. इसको लेकर गोपाल राय ने आईआईटी-कानपुर टीम के साथ बैठक की थी. हालांकि, इसके लिए केंद्र से मंजूरी मिलनी है. दिल्ली सरकार आर्टिफिशियल बारिश का पूरा खर्च वहन करेगी, यह पहले ही तय हो चुका है.

इस बीच आईएमडी के वरिष्ठ वैज्ञानिक सोमा सेन ने मौसम को लेकर जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है. यह सिस्टम तेज हो जाएगा और उत्तर की ओर चला जाएगा. पूर्वी भारत और पूर्वोत्तर भारत में 15, 16 और 17 नवंबर को बारिश हो सकती है. पश्चिम बंगाल के दक्षिणी जिलों और उत्तरी-तटीय ओडिशा के जिलों में बहुत भारी बारिश की संभावना है. इन जिलों में अलर्ट जारी किया गया है. एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ आ रहा है. उत्तरी जम्मू-कश्मीर में बर्फबारी और हल्की बारिश हो सकती है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.