Delhi Metro के चौथे फेज के निर्माण को लेकर खुशखबरी, जापानी कंपनी JICA मुहैया कराएगी फंड !

0 36


आर्थिक दिक्कत से जूझ रहे दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) के लिए राहत भरी खबर आ रही है। दिल्ली मेट्रो के चौथे फेज के निर्माण में तेजी लाने के लिए जापानी कंपनी जापान इंटरनेशनल कॉ-ऑपरेशन एजेंसी (Japan International Cooperation Agency) ने एक बार फिर मदद का हाथ बढ़ाया है। सूत्रों की मानें तो वह चौथे चरण के ट्रैक के निर्माण के लिए आर्थिक मदद देने के लिए तैयार हो गया है। इस बाबत जरूरी प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। माना जा रहा है कि JICA से आर्थिक मदद मिलते ही दिल्ली मेट्रो के चौथे चरण के निर्माण कार्य में और तेजी आएगी। बता दें कि कोरोना वायरस संक्रमण के चलते 22 मार्च 2020 से अचानक बंद हुई दिल्ली मेट्रो फिर 7 सितंबर से शुरू हुई, लेकिन इस बीच उसे 1500 करोड़ रुपये के आसपास का घाटा हो गया। ऐसे में नए प्रोजेक्ट के लिए आर्थिक दिक्कत आ रही थी।


आने वाले समय में धड़ाधड़ जारी होंगे टेंडर

दिल्ली मेट्रो से जुड़े सूत्रों की मानें तो JICA फेज-4 के निर्माण कार्य में गति लाने के लिए फंड मुहैया कराने पर सहमत हो गया है। इसी के साथ अनुदान पाने के लिए प्रक्रिया सरकारी स्तर पर है। इसमें थोड़ा समय लग सकता है। पैसा मिलते ही दिल्ली मेट्रो प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए धड़ाधड़ टेंडर जारी करेगा।


गौरतलब है कि दिल्ली मेट्रो को जापान इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एजेंसी आर्थिक मदद देता रहा है। यहां पर यह बता देना जरूरी है कि दिल्ली मेट्रो के प्रथम चरण की परियोजना के लिए परियोजना की कुल लागत का 58 फीसद ऋण जीका ने ही दिया था। इसी तरह दूसरे चरण की परियोजना के लिए कुल लागत का 49 फीसद और तीसरे चरण की परियोजना के लिए 42 फीसद लोन मुहैया कराया था। कुलमिलाकर तीनों फेज के लिए जीका द्वारा DMRC को मुहैया कराई गई रकम 13000 करोड़ रुपये के आसपास पहुंचती है। सूत्रोें की मानें तो मेट्रो के विस्तार के लिए जीका की फंडिंग बेहद जरूरी है वरना ट्रैक का निर्माण और चौथे चरण की मेट्रो निर्माण के काम में गति नहीं आ पाएगी।


‘किसान आंदोलन के समर्थन में एक भाजपा सांसद देने वाला है इस्तीफा’ सामने आया Rakesh Tikait का चौंकाने वाला बयान

यहां पर बता दें कि चौथे चरण की मेट्रो विस्तार परियोजना में तीन कॉरिडोर के निर्माण में करीब 24 हजार करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसमें से जीका द्वारा 12 हजार 930 करोड़ रुपये ऋण के रूप में दिए जाने हैं। चौथे चरण की जिन तीन कॉरिडोर के लिए ऋण दिया जाना है, उनमें जनकपुरी से आरके आश्रम मार्ग, एरोसिटी से साकेत और मौजपुर से मजलिस पार्क तक है। इन तीनों कॉरिडोर की कुल लंबाई 61.67 किलोमीटर है। इसमें से 22.38 किलोमीटर भूमिगत और 39.30 किलोमीटर एलिवेटेड है। जीका द्वारा सिर्फ भूमिगत मेट्रो कॉरिडोर के लिए ही ऋण उपलब्ध कराया जाता है।