2024 लोकसभा चुनाव से पहले डरी कांग्रेस! दिग्विजय सिंह ने अलापा पुराना राग, जानें क्या कहा

15

Congress On EVM : साल 2024 का आज पहला दिन है. हर तरफ बधाइयों की तांता लगी हुई है. राजनीतिक दल के नेता हो या अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी, सरकारी अधिकारी हो या निजी कर्मचारी हर कोई एक दूसरे को नए साल की शुभकामनाएं दे रहा है. लेकिन, नया साल कई नए चुनौती और आयोजन भी लेकर आ रहा है. इस साल भारतीय राजनीति का बड़ा संग्राम होने वाला है. हम बात कर रहे है लोकसभा चुनाव की. यूं तो आम चुनाव के लिए सभी राजनीतिक दल तैयारियां कर रहे है लेकिन, कांग्रेस पार्टी साल की शुरुआत से ही चुनाव को लेकर बयानबाजी कर रही है और चुनाव प्रणाली पर सवाल खड़े कर रही है. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर पुराना राग अलापा है और EVM को सवालों के कटघरे में खड़ा किया है.

‘मतदाताओं को वीवीपीएटी पर्ची मिलनी चाहिए’

वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर रविवार को इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर सवाल उठाया है और मांग की कि मतदाताओं को वीवीपीएटी पर्ची मिलनी चाहिए, जो मतपेटियों में डाली जा सके. चुनाव में ईवीएम के इस्तेमाल पर सवाल उठाने वाले एक वीडियो पर जवाब देते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि वह तो 2003 से ही कह रहे हैं कि उन्हें ईवीएम पर भरोसा नहीं है.

‘जिसे वोट डालना चाहता हूं, वह वोट कहां चला गया’

साथ ही उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि यह पता ही नहीं चलता कि जिसे वोट डालना चाहता हूं, वह वोट कहां चला गया. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि दुनिया में चिप लगायी जाने वाली ऐसी कोई मशीन नहीं है, जिसे हैक नहीं किया जा सके, क्योंकि चिप उसमें (मशीन में) लगे सॉफ्टवेयर के आदेशों का पालन करेगा. उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि यदि आप ‘ए’ टाइप करेंगे तो सॉफ्टवेयर केवल ‘ए’ ही कहेगा और केवल ‘ए’ ही दिखाई देगा.’’

‘राहुल मेहता के वीडियो में यह खेल देख सकते हैं’

दिग्विजय सिंह ने अपने पोस्ट में कहा, ‘‘माना कि आप ईवीएम पर ‘पंजा’ (कांग्रेस का चुनाव निशान) दबाते हैं तो, यदि सॉफ्टवेयर ‘कमल’ कह देगा तो क्या छपा हुआ दिखेगा? पंजा या कमल? अब मामला इसपर आता है कि वीवीपीएटी मशीन ने आपको सात सेंकेंड के लिए ‘पंजा’ दिखाया और हम (यानी आप) खुश होकर चले गये, लेकिन ‘कमल’ (भाजपा का चुनाव निशान) छपा हुआ दिखेगा. आप राहुल मेहता के वीडियो में यह खेल देख सकते हैं.’’

‘चुनाव मतपत्रों के माध्यम से कराये’

उन्होंने कहा कि विपक्ष की मांग रही है कि चुनाव मतपत्रों के माध्यम से कराये जाएं जैसा कि सभी विकसित देशों में किया जाता है. उन्होंने कहा, ‘‘मतगणना में थोड़ा अधिक वक्त लगेगा. लग जाए. लेकिन जनता को विश्वास तो हो जाएगा कि वह जिसको वोट देना चाहती थी, उसे ही उसका वोट गया. आज यह भी पता नहीं होता है. यदि नरेन्द्र मोदी जी और हमारे चुनाव आयोग को ईवीएम से इतना ही प्यार है तो वे वीवीपीएटी पर्ची क्यों नहीं दिखाते हैं, यह हमें दीजिए और हम उसे मतपेटियों में रखेंगे.’’

सोर्स : भाषा इनपुट

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.