ऑस्कर में पहुंची ‘चंपारण मटन’ फिल्म बनी मिसाल, बिहार के बेटी फलक खान बोली- फिल्म ने दी पहचान

51

लंबे संघर्ष के बाद ‘चंपारण मटन’ ने दी पहचान

ऑस्कर के स्टूडेंट एकेडमी कैटेगरी में सेमीफाइनल में पहुंची फिल्म चंपारण मटन की अभिनेत्री फलक खान को 18 वर्षों की मेहनत के बाद मुकाम मिला है. माता-पिता की मर्जी के खिलाफ फलक ने एमटेक करने के बजाय फिल्मी दुनिया का रास्ता चुना और अपनी मेहनत से सफलता पायी. फलक मुजफ्फरपुर के ब्रह्मपुरा की रहनेवाली हैं. कई शॉर्ट फिल्मों के अलावा धारावाहिक में भी फलक ने काम किया है, लेकिन चंपारण मटन इनकी अब तक की उपलब्धि में मील का पत्थर साबित हुई है. फलक ने बताया कि अब चंपारण मटन से पहचान मिली है. उनके पास अब फिल्मों के भी ऑफर हैं. फिलहाल एक फिल्म की शूटिंग भी पूरी की है. दूसरी फिल्मों पर विचार कर रही हूं. बिहार और देश का नाम दुनिया तक पहुंचे, यही कोशिश है. इसके लिये पूरी ऊर्जा से काम करूंगी.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.