बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर का 67 साल की उम्र में निधन, आलिया पहुंचीं हॉस्पिटल

0 147

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर इरफान के निधन की ख़बर से लोग अभी उभरे भी नहीं थे कि बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर ने भी इस दुनिया को अलविदा कह दिया। पिछले दो साल से leukemia से जंग लड़ने के बाद उन्होंने दुनिया का साथ छोड़ दिया। अचानक तबीयत खराब होने के बाद उन्हें बुधवार को मुंबई के एच.एन रिलायंस हॉस्पिटल भर्ती कराया गया था। इसके बाद गुरुवार सुबह 8: 45 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली। इरफ़ान ख़ान के निधन के 24 घंटे के अंदर एक और शानदार एक्टर ने हिंदी सिनेमा का साथ छोड़ दिया।

ऋषि कपूर के निधन के बाद के परिवार वाले धीरे-धीरे हॉस्पिटल पहुंच रहे हैं। इस बीच रणबीर कपूर की गर्लफ्रैंड आलिया भट्ट हॉस्पिटल पहुंच गई है। उनका एक वीडियो भी सामने आया है। लोगों को रणबीर कपूर का इंतज़ार है। वहीं, परिवार ऋषि कपूर की बेटी रिद्धिमा कपूर का भी इंतज़ार कर रहा है। हालांकि, लॉकडाउन के वजह से ज्यादा लोगों के आने की संभावना नहीं है।

ऋषि कपूर के परिवार की ओर से उनके निधन की आधिकारिक सूचना भी दे दी गई है। ऑफ़िशियल स्टेटमेंट के मुताबिक, ऋषि कपूर ने गुरुवार को सुबह 8:45 मिनट पर इस दुनिया को अलविदा कहा। इसमें बताया गया कि ऋषि कपूर पिछले दो साल से leukemia से पीड़ित थे। उन्होंने हंंसते हुए और लोगों को हंसाते हुए इस दुनिया का साथ छोड़ा। इस बयान में लॉकडाउन की वजह से भीड़ इकट्ठा ना होने की भी बात कही गई है। लोग से अपील की गई है कि वह नियम का पालन करें, जो इस वक्त लागू हैं।

बुधवार को एक्टर की तबीयत अचानक ज्यादा खराब हो गई, जिसके बाद आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में एडमिट करवाया गया। उनका इलाज़ मुंबई के एच.एन रिलायंस हॉस्पिटल में चल रहा था। भाई रणधीर कपूर ने इस खबर को कन्फर्म किया था कि ऋषि कपूर की तबीयत ठीक नहीं है। अब इसी हॉस्पिटल में उन्होंने आखिरी सांस ली।

ऋषि कपूर को सांस लेने में दिक्कत थी। ऋषि कपूर पिछले साल सितंबर में ही न्यूयॉर्क में लगभग एक साल कैंसर का इलाज करवाने के बाद भारत लौटे थे। उन्हें साल 2018 में पता चला था कि वह कैंसर से पीड़ित हैं। इसके बाद वह अपने इलाज़ के लिए न्यूयॉर्क गए थे। उनके आखिर वक्त में उनकी पत्नी नीतू कपूर उनके साथ ही रहीं।

ऋषि कपूर की बेटी रिद्धिमा कपूर दिल्ली में हैं। पिता की तबीयत ख़राब होने की जानकारी मिलते ही, उन्होंने सरकार से दिल्ली से मुंबई तक की यात्रा की इजाजत मांगी है। गौरतलब है कि लॉकडाउन की वजह से सभी प्रकार की यातयात सुविधाएं बंद हैं। ऐसे में वह अभी दिल्ली में फंसी हुई हैं।

ऋषि कपूर जाते-जाते अपने आखिरी ट्वीट में लोगों से एक साथ रहने की अपील कर गए। उन्होंने कोरोना वायरस योद्धाओं पर हो रहे हमले की निंदा की और लोगों से सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस युद्ध को एक साथ जीतना होगा।

ऋषि कपूर के निधन के बाद से चारों तरफ शोक की लहर दौड़ गई है। सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सवंदेना व्यक्त करते हुए कहा है कि ऋषि कपूर का आकस्मिक निधन चौंकाने वाला है। वह न केवल एक महान अभिनेता थे, बल्कि एक अच्छे इंसान भी थे। उनके परिवार, दोस्तों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदना है। इसके अलावा कई और फ़िल्म अभिनेताओं और एक्टर्स ने अपनी संवेदना व्यक्त की है।

आपको बता दें कि ऋषि कपूर का जन्म 4 सितम्बर, 1952 को मुंबई के चेंबूर में हुआ। ऋषि कपूर ने अपनी शुरुआती पढ़ाई कैंपियन स्कूल, मुंबई से की। इसके बाद वह अजमेर के मेयो कॉलेज से आगे की पढ़ाई की। बतौर बाल कलाकर उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की। वह फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में नज़र आए। बतौर लीड एक्टर बॉबी उनकी पहली फ़िल्म थी। इस फ़िल्म को राज कपूर ने निर्देशित किया था। जिसके लिए उन्हें 1974 में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिला। वहीं, साल 2008 में ऋषि कपूर को फिल्म फेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से भी नवाजा गया। ऋषि ने अपने फ़िल्मी करियर में कई शानदार फ़िल्में कीं। गौरतलब है कि ऋषि कपूर के पिता राज कपूर और दादा पृथ्वीराज कपूर भी कला की इस दुनिया में सक्रिय रहे। ऋषि के बटे रणबीर कपूर इस वक्त बॉलीवुड में सक्रिय हैं।