बिहार: फूलों की खेती से लाखों का मुनाफा, हर महीने होगी कमाई, जानें कैसे मिलेगा 70 फीसदी का अनुदान

26

‍Bihar News: फूलों की खेती से लाखों की कमाई की जा सकती है. इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि सालों भर इसकी खेती की जा सकती है. गेंदा फूल की खेती को बढ़ावा देने के लिए 70 फीसदी अनुदान देने का फैसला लिया गया है. उद्यान विभाग के अनुसार सितंबर माह से शुरू इसके लिए आवेदन की शुरुआत की जाएगी. विभाग को इसके लिए गाइड लाइन मिल चुका है. मुजफ्फरपुर जिले में गेंदा फूल की खेती को बढ़ावा देने के लिये कृषि विभाग की ओर से गाइड लाइन जारी किया गया है. इस बार एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना के तहत गेंदा फूल की खेती के लिये सरकार की ओर से 70 फीसदी अनुदान दिया जायेगा.

विभाग के पोर्टल पर अनुदान के लिए करें आवेदन

कृषि विभाग की ओर से अनुदान यूनिट की लगात 40 हजार हेक्टेयर रखी गयी है. विभागीय गाइड लाइन के अनुसार उद्यान विभाग की टीम फूल की खेती के लिए किसानों को जागरूक करेगी. जानकारी के अनुसार इस बार दस हेक्टेयर का टारगेट जिला को दिया गया. हालांकि इसमें टारगेट बढ़ने की भी संभावना है. उद्यान विभाग के वेबसाइट पर योजना के बारे में पूरी जानकारी दी गयी है. रिकॉर्ड के अनुसार जिला में करीब 80 से 90 हेक्टेयर में अब गेंदा फूल की खेती होती है. धीरे-धीरे किसानों का रुझान इस ओर बढ़ रहा है. सहायक निदेशक उद्यान मोहम्मद तारीक असलम ने बताया कि अनुदान के लिये सितंबर माह में विभाग के पोर्टल पर आवेदन की प्रक्रिया शुरू होगी.

मुजफ्फरपुर जिले में इन प्रखंडों में होती है गेंदा की खेती

– सकरा

– मुरौल

– मोतीपुर

– सरैया

– बोचहां

– कांटी

– पारु

हर मौसम में अलग-अलग किस्मों के गेंदा की खेती

हर मौसम में अलग-अलग किस्मों के गेंदा की खेती की जाती है. बुद्धिमानपुर देवरिया में गेंदा की खेती करने वाले किसान बताते है कि वह फिलहाल पांच किस्म के गेंदा की खेती करते है. पिछले करीब 23 वर्षों से गेंदी की खेती से जुड़े है. उन्होंने बताया कि अलग-अलग किस्मों के लिये हर मौसम में गेंदा की खेती हो सकती है. शुरू के समय में दो-चार कठ्ठा से इन्होंने खेती की शुरूआत की थी. अभी फिलहाल करीब 1 बीघा में खेती कर रहे है. इनके यहां से व्यापारी उत्तर बिहार के जिलों में फूल की सप्लाई करते है.

कम लागत में होगा भारी मुनाफा

बता दें कि गेंदा एक खास और लोकप्रिय फूल है. कई तरह से त्योहार से लेकर पूजा में इस फूल का इस्तमाल किया जाता है. यह एक ऐसे फूल है, जो सालभर आसानी से मिल सकता है. राखी से लेकर दशहरा और दीवाली तक में इस फूल का इस्तेमाल किया जाता है.राखी से लेकर दशहरा और दीपावली में इस फूल का उपयोग होता है. किसान कम लागत में भी इसकी खेती से अच्छा मुनाफा कमा सकते है. अतिरिक्त आय के लिए भी इसकी खेती की जा सकती है.

गेंदे के फूलों की बाजार में अच्छी मांग है. इसको देखते हुए किसानों के लिए इसका उत्पादन बेहद लाभकारी साबित हो सकता है. इस फसल के बारे में खास बात तो यह है कि इसकी खेती कम जगह पर भी आसानी से की जा सकती है. यदि, आपके पास एक हेक्टेयर भी जमीन है तो आप इसकी खेती कर हर साल करीब 15 लाख रुपए की कमाई कर सकते हैं. जानकार बताते है कि जनवरी के महीने में गेंदा का फूल लगाना सबसे सही होता है. इसका नवरात्र के पूजा में भरपुर इस्तेमाल होता है. इसकी बाजारों में अच्छी कीमत भी है. गेंदा का फूल पूरे देश में महत्व रखता है. मेले से लेकर सजावट में इसके फूलों का व्यापक रुप से इस्तेमाल होता है. यह एक ऐसा फूल है, जिसे राज्य के तीनों मौसम में उगाया जाता है. लेकिन, मुख्य रुप से यह ठंडी जलवायु का फसल है. माला के साथ ही सजावट के लिए इसका विशेष रुप से उपयोग होता है. सितंबर के महीने में गेंदा के फूल को लगाने से इसमें सबसे ज्यादा पैदावार होती है. सरकार की ओर से सितंबर महीने से ही इस फसल को लगाने पर अनुदान दिया जाएगा.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.