Bata International के ग्लोबल सीईओ बने संदीप कटारिया को है दिग्गज कंपनियों में नेतृत्व का अनुभव, जानिए कैसा रहा है उनका करियर

0 66


बाटा इंडिया लिमिटेड के सीईओ संदीप कटारिया को बाटा इंटरनेशनल का ग्लोबल सीईओ चुना गया है। वे एलेक्सिस नासार्ड की जगह लेंगे, जो इस महीने के आखिर में कंपनी छोड़ रहे हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियों के भारतीय व भारतवंशी सीईओ की सूची में इस वर्ष कटारिया से पहले अरविंद कृष्ण जुड़े थे जिन्हें इस वर्ष अप्रैल में ग्लोबल टेक्नोलॉजी दिग्गज आइबीएम का सीईओ नियुक्त किया गया है।

अपने 126 वर्षो के इतिहास में बाटा इंटरनेशनल द्वारा पहली बार ग्लोबल सीईओ के रूप में किसी भारतीय का चयन अनायास नहीं है। इस सप्ताह उनके ग्लोबल सीईओ चुने जाने के बाद बाटा इंडिया के चेयरमैन अश्वनी विंडलास ने कहा कि पिछले कुछ वर्षो के दौरान बाटा इंडिया की टीम ने जबर्दस्त काम किया है। कटारिया के गहन अनुभवों का बाटा इंडिया और बाटा ग्रुप को पूरा फायदा मिलता रहेगा।

वर्ष 2017 में बाटा ज्वाइन करने से पहले कटारिया यम ब्रांड्स में कई प्रमुख जिम्मेदारियां संभाल चुके हैं। यम ब्रांड्स के पास केएफसी, पिज्जा हट, टाको बेल, द हैबिट बर्गर ग्रिल और विंगस्ट्रीट जैसे बड़े नाम हैं, जिनका ग्राहक आधार बहुत बड़ा है। कटारिया के पास यूनीलिवर और वोडाफोन जैसी दिग्गज कंपनियों का भी अनुभव है।


आइआइटी (दिल्ली) से स्नातक और जेवियर लेबर रिलेशंस इंस्टीट्यूट (एक्सएलआरआइ – जमशेदपुर, वर्तमान नाम जेवियर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट) से मैनेजमेंट में स्नातकोत्तर डिग्री ले चुके कटारिया वर्ष 2017 से बाटा इंडिया लिमिटेड के सीईओ का पद संभाल रहे हैं। अपनी इस जिम्मेदारी के तहत कटारिया ने कंपनी के कारोबार को जिस तरह नई ऊंचाई दी है, वह मुश्किल भरे मौजूदा दौर में किसी भी कंपनी के लिए विशिष्ट कही जा सकती है। विशेषज्ञों के मुताबिक एफएमसीजी और रिटेल कंज्यूमर केंद्रित कारोबारों में कटारिया का बेहतरीन अनुभव और ट्रैक रिकॉर्ड उन्हें इस नई वैश्विक जिम्मेदारी के लिए बेहद योग्य साबित करता है।

कटारिया के नेतृत्व में बाटा इंडिया लिमिटेड ने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान राजस्व और शुद्ध लाभ में दोहरे अंकों की विकास दर हासिल की। दुनियाभर की अन्य कंपनियों की तरह बाटा के लिए भी भारत बेहद महत्वपूर्ण बाजार है। खासतौर पर फुटवियर के मामले में भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता बाजार है। इस बाजार में कंपनी सालाना पांच करोड़ जोड़ी से अधिक फुटवियर की बिक्री कर रही है। इस लिहाज से देखें तो दुनियाभर में इस वक्त सालाना 18 करोड़ जोड़ी से कुछ अधिक फुटवियर की बिक्री कर रही बाटा के लिए अकेले भारतीय बाजार की हिस्सेदारी लगभग एक-तिहाई है।


बाटा इंटरनेशनल : एक नजर में

वर्ष 1894 में चेकोस्लोवाकिया के कारोबारी टॉमस बाटा ने फुटवियर के कारोबार के लिए इस कंपनी की स्थापना की थी। फुटवियर कारोबार में वॉल्यूम यानी संख्या के लिहाज से यह दुनियाभर की सबसे बड़ी कंपनी है। यह विश्व में सालाना 18 करोड़ जोड़ी से अधिक फुटवियर बेचती है। दुनियाभर में इसके 5,800 से अधिक स्टोर और 22 फुटवियर मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स हैं। जहां तक भारत का सवाल है तो यह दुनियाभर में कंपनी का दूसरा सबसे बड़ा बाजार है। एक आकलन के मुताबिक भारतीय फुटवियर बाजार का आकार लगभग 60,000 करोड़ रुपये मूल्य का है, जिसके वित्त वर्ष 2023 तक 72,000 करोड़ रुपये मूल्य तक पहुंच जाने का अनुमान है।