‘मैं जब तक पंजाब में रहूंगा, हेलीकॉप्टर का नहीं करूंगा इस्तेमाल’, राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने कहा

6

चंडीगढ़ : पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने बुधवार को कहा कि मैं जब तक पंजाब में रहूंगा, तब सरकारी हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल नहीं करूंगा. उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत माने की ओर से आरोप लगाए जाने के बाद कहा कि मुझे पर आरोप लगाया गया है कि हमने राज्यपाल को बॉर्डर पर जाने के लिए हेलीकॉप्टर दिया. ये तो सरकारी ड्यूटी है न? मैं बॉर्डर पर गया था, ये मेरा अधिकार है. मैं कभी निजी कार्य के लिए नहीं गया. उन्होंने कहा कि मैं घोषणा करता हूं कि जब तक मैं पंजाब में हूं, तब तक मैं पंजाब सरकार का हेलीकॉप्टर कभी इस्तेमाल नहीं करूंगा. मैं नहीं लूंगा आपका (पंजाब मुख्यमंत्री भगवंत मान) हेलीकॉप्टर, आप खुश रहिए.

सरकारी ड्यूटी निभाने के लिए हेलीकॉप्टर का किया इस्तेमाल : बनवारीलाल

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुराहित ने कहा कि मुझे पर आरोप लगाया गया है कि हमने राज्यपाल को बॉर्डर पर जाने के लिए हेलीकॉप्टर दिया. ये तो सरकारी ड्यूटी है न? मैं बॉर्डर पर गया था, ये मेरा अधिकार है. मैं कभी निजी कार्य के लिए नहीं गया. उन्होंने कहा कि मैं घोषणा करता हूं कि जब तक मैं पंजाब में हूं, तब तक मैं पंजाब सरकार का हेलीकॉप्टर कभी इस्तेमाल नहीं करूंगा.

राज्यपाल के खिलाफ विधानसभा में विधेयक पारित

बता दें कि मंगलवार 20 जून 2023 को पंजाब विधानसभा में पंजाब विश्वविद्यालय कानून (संशोधन) विधेयक- 2023 संक्षिप्त बहस के बाद पारित किया गया. इस विधेयक के पारित होने होने के बाद पंजाब के विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति राज्यपाल बजाय मुख्यमंत्री होंगे. विधेयक पर बहस के दौरान मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि पश्चिम बंगाल विधानसभा में भी इसी तरह का विधेयक पिछले साल पारित किया गया था. वहीं, पिछले साल दिसंबर में केरल विधानसभा ने राज्य के विश्वविद्यालयों का कुलाधिपति राज्यपाल को नहीं बनाकर प्रतिष्ठित शिक्षाविदों को शीर्ष पद पर नियुक्त करने के लिए एक विधेयक पारित किया था.

राज्यपाल मेरा सरकारी हेलीकॉप्टर ले लेते हैं : मान

विधानसभा में बहस के दौरान मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि यदि हम किसी विश्वविद्यालय का कुलपति नहीं नियुक्त कर सकते हैं, तो यह हमें मिले जनादेश का असम्मान है. उन्होंने दावा किया कि राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने पिछले साल कुछ कुलपतियों की नियुक्ति में बाधा उत्पन्न की थी. उन्होंने कहा कि वह (राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित) मेरा हेलीकॉप्टर (सरकारी हेलीकॉप्टर) लेतें हैं और फिर मुझसे दुर्व्यवहार करते हैं. मुझे नहीं लगता कि इतने हस्तक्षेप की जरूरत है. उनका कर्तव्य शपथ दिलाना है. इसका मतलब यह नहीं है कि वह हर छोटी चीज के लिए परेशानी खड़ी करें.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.