धीरेंद्र शास्त्री को लेकर बंटा विपक्षी गठबंधन? लालू की पार्टी राजद ने कांग्रेस पर ही कर दिया हमला

21

मध्य प्रदेश में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. इससे पहले कांग्रेस प्रदेश में खासी सक्रिय नजर आ रही है. इस क्रम में कांग्रेस नेता कमलनाथ के क्षेत्र छिंदवाड़ा में बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर एवं कथावाचक धीरेंद्र शास्त्री पाठ कर रहे हैं जिसका फोटो और वीडियो लगातार सामने आ रहा है. मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने गत शनिवार को बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर एवं कथावाचक धीरेंद्र शास्त्री का अपने गढ़ छिंदवाड़ा में अपने बेटे एवं सांसद नकुलनाथ के साथ आरती उतारकर स्वागत किया जिसकी तस्वीर सामने आयी.

इस बीच विपक्षी गठबंधन दल के सहयोगी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) का बयान मामले को लेकर आया है. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने मध्य प्रदेश में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं के विवादास्पद कथावाचक धीरेंद्र शास्त्री के कार्यक्रम में शामिल होने पर सोमवार को स्पष्टीकरण मांगा. तिवारी ने ‘हिंदू राष्ट्र’ के लिए शास्त्री की वकालत को रेखांकित किया और दावा किया कि मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के ऐसा किए जाने पर बिहार के सत्तारूढ़ महागठबंधन में ‘बेचैनी’ है. तिवारी का वीडियो मैसेज सामने आया है जिसमें वे कहते नजर आ रहे हैं कि कमलनाथ को मध्य प्रदेश में कांग्रेस का मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार कहा जाता है. उनके और उनके बेटे द्वारा शास्त्री का किया गया स्वागत महागठबंधन के लिए पचाना मुश्किल है.

शास्त्री ने कई मौकों पर देश को हिंदू राष्ट्र बनाने का समर्थन किया

आपको बता दें कि कांग्रेस नेता और एमपी के पूर्व सीएम कमलनाथ के बेटे नकुल छिंदवाड़ा से लोकसभा सांसद हैं, जहां पिता-पुत्र की जोड़ी शास्त्री के कार्यक्रम में शामिल हुए थे. राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि शास्त्री ने कई मौकों पर देश को हिंदू राष्ट्र बनाने का समर्थन किया है. कुछ महीने पहले जब उन्होंने पटना में एक कार्यक्रम किया था, तब उन्होंने इस विचार को दोहराया था. आगे बिहार के पूर्व मंत्री ने कहा कि स्पष्ट रूप से, शास्त्री के विचार महागठबंधन के विचारों से भिन्न हैं, जिसका मानना है कि देश को संविधान के अनुसार चलाया जाना चाहिए. तिवारी ने कहा कि इस पृष्ठभूमि में, यह आग्रह किया जाता है कि कांग्रेस अपने नेताओं को इस मुद्दे पर सफाई देने को कहे.

छिंदवाड़ा के दौरे पर थे धीरेंद्र शास्त्री

आपको बता दें कि आचार्य धीरेंद्र शास्त्री कमलनाथ के निमंत्रण पर छिंदवाड़ा के दौरे पर थे, जहां उनका दिव्य दरबार लगा हुआ था और वे सिमरिया स्थित सिद्धेश्वर हनुमान मंदिर में लगे विशाल वाटरप्रूफ पंडाल में हनुमंत कथा कर रहे थे जहां हजारों की भीड़ देखने को मिल रही है. यह तीन दिवसीय कथा सात अगस्त तक चली. कमलनाथ एवं नकुलनाथ कथावाचक पंडित शास्त्री के श्रीमुख से कथा का श्रवण करते नजर आये. कमलनाथ और उनके बेटे ने 27 वर्षीय शास्त्री के छिंदवाड़ा हवाई पट्टी पर विमान से उतरने के बाद स्वागत किया था और उनकी आरती उतारी थी. इसका वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. कमलनाथ ने कहा था कि हमारा सौभाग्य है छिंदवाड़ा की पावन भूमि पर आपके चरण स्पर्श हुए गुरुदेव..

भगवान हनुमान की 101 फुट से अधिक ऊंची मूर्ति स्थापित

धीरेंद्र शास्त्री के दिव्य दरबार स्थल की ओर जाते हुए हजारों लोग सड़क के दोनों ओर कतारों में खड़े थे और उन पर फूल बरसाए. शास्त्री ने अपना प्रवचन शुरू करने से पहले कहा कि कमलनाथ ने फरवरी में छतरपुर में मेरे गृह स्थान बागेश्वर धाम में मुझसे मुलाकात की थी और मुझे भगवान हनुमान के दर्शन के लिए सिमरिया गांव में आमंत्रित किया था. आपको बता दें कि शास्त्री के प्रवचन अक्सर विवादास्पद बयानों और हिंदू राष्ट्र की स्थापना की मांगों से भरे होते हैं. कमलनाथ ने 15 साल पहले सिमरिया में भगवान हनुमान की 101 फुट से अधिक ऊंची मूर्ति स्थापित की थी, जिसे उस समय देश में सबसे ऊंची माना जाता था. मध्य प्रदेश में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सत्तारूढ़ बीजेपी को घेरने के लिए विपक्षी कांग्रेस हिंदू मतदाताओं तक पहुंच बनाकर अपनी छवि को फिर से तैयार करने की कोशिश कर रही है.

आपको बता दें कि इस साल मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. पिछली बार चुनाव में कांग्रेस सत्ता में आई थी लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिंया की बगावत के बाद सरकार गिर गयी थी. इसके बाद शिवराज सिंह प्रदेश के सीएम बने थे

भाषा इनपुट के साथ

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.