राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा 8 दिन शेष: प्रभु रामलला के लिए 25 हजार पोशाक तैयार, हर दिन के लिए अलग वस्त्र

8

श्रीराम नगरी अयोध्या में वशिष्ठ कुंड के पास प्रभु रामलला के दर्जी भगवत प्रसाद पहाड़ी की मशीनें चालू हैं, लेकिन रामलला की पोशाक तैयार करने का काम फिलहाल बंद है. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से प्रभु रामलला की मूर्ति की नाप नहीं मिलने के कारण उनके कपड़े तैयार नहीं हो पार रहे हैं. भगवत प्रसाद का कहना है कि जब ट्रस्ट की ओर से हरी झंडी मिलेगी, तो दो दिन में कपड़े तैयार हो जायेंगे. हालांकि, उन्होंने रामलला की तीन पोशाकें फिलहाल तैयार करके रखी हैं. इनमें एक सफेद, दूसरी पीली और तीसरी लाल रंग की है. भगवत प्रसाद का कहना है कि देशभर से रामभक्त उन्हें फोन करके रामलला के कपड़े तैयार करने का ऑर्डर दे रहे हैं. रामभक्तों के ऑर्डर पर वह 25 हजार से ज्यादा पोशाकें तैयार कर चुके हैं. उनका कहना है कि राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और उत्तराखंड से सबसे अधिक ऑर्डर मिले हैं.

10 हजार रुपये में तैयार होता है एक वार्डरोब

भगवत प्रसाद ने बताया कि भगवान रामलला के लिए कपड़े सात दिन के हिसाब से तैयार होते हैं. इस पर करीब 10 हजार रुपये खर्च होते हैं. एक सेट में तीन पर्दे, एक बड़ा बिछौना, छह छोटे बिछौने, छह दुपट्टा और रजाई शामिल है.

दिन के हिसाब से वस्त्र पहनते हैं प्रभु श्रीराम

प्रभु रामलला के वस्त्र दिन के अनुसार तैयार किये जाते हैं. सोमवार को सफेद, मंगलवार को लाल, बुधवार को हरा, गुरुवार को पीला, शुक्रवार को क्रीम, शनिवार को नीला और रविवार के लिए गुलाबी रंग के वस्त्र तैयार किये जाते हैं.

उत्तराखंड में 22 को शराब की दुकानें और बार बंद रहेंगे

देहरादून. उत्तराखंड में अयोध्या के श्रीराम मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा समारोह के अवसर पर 22 जनवरी को शराब की दुकानें और बार बंद रहेंगे. आबकारी आयुक्त हरि चंद्र सेमवाल ने एक आदेश में कहा है कि राज्य में शराब लाइसेंस धारकों को इस बंद का कोई मुआवजा नहीं मिलेगा. इसके साथ ही वह कोई दावा भी नहीं कर सकते.

प्राण प्रतिष्ठा के दिन मॉरीशस में दो घंटे की विशेष छुट्टी

मॉरीशस सरकार ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह वाले दिन 22 जनवरी को हिंदुओं के लिए दो घंटे की विशेष छुट्टी का एलान किया है. मॉरीशस सरकार के कैबिनेट ने इससे संबंधित एक प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. एक बयान के अनुसार, कैबिनेट हिंदू अधिकारियों के लिए दो घंटे की विशेष छुट्टी देने पर सहमत हुआ है. यह एक ऐतिहासिक घटना है, जो अयोध्या में भगवान श्रीराम की वापसी जैसा है. मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जुगनाथ ने कैबिनेट के इस फैसले पर कहा कि यह भावनाओं और परंपराओं के सम्मान का छोटा-सा प्रयास है. लगभग 13 लाख की आबादी वाले मॉरीशस में 48.5 प्रतिशत से अधिक लोग हिंदू हैं.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.