ईडी को पत्र लिखकर अरविंद केजरीवाल मध्य प्रदेश रवाना, सिंगरौली में करेंगे रोड शो

22

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पूछताछ के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष पेश होना था लेकिन वह आज जांच एजेंसी के समक्ष पेश नहीं होंगे. वह चुनाव प्रचार के लिए मध्य प्रदेश जा रहे हैं. खबर लिखे जाने तक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपने आवास से एयरपोर्ट के लिए निकल चुके हैं. वे मध्य प्रदेश के सिंगरौली में पार्टी के चुनाव अभियान के तहत पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ एक रोड शो करेंगे. आम आदमी पार्टी (आप) के सूत्रों के हवाले से मीडिया में यह खबर पहले ही चल रही थी. पार्टी की ओर से बताया गया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री मध्य प्रदेश के सिंगरौली जाएंगे जहां वह पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ एक रोडशो करेंगे. आपको बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने अरविंद केजरीवाल को कथित आबकारी नीति घोटाला से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में पूछताछ के लिए समन किया है. उन्हें गुरुवार को सबह 11 बजे जांच एजेंसी के दिल्ली कार्यालय में पेश होना था, लेकिन उन्होंने ईडी को एक पत्र लिखा और कहा कि नोटिस वापस लेना चाहिए.

क्या कहा अरविंद केजरीवाल ने ईडी से

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को ईडी को पत्र लिखकर जांच एजेंसी से उन्हें पूछताछ के लिए भेजा गया नोटिस वापस लेने की मांग की. उन्होंने दावा किया कि यह पूरी तरह से अवैध और राजनीति से प्रेरित है. दिल्ली के मुख्यमंत्री के कार्यालय (सीएमओ) ने ईडी के नोटिस के जवाब में कहा कि केजरीवाल ने इसे अवैध और राजनीति से प्रेरित बताया है. चुनावी राज्यों में चुनाव प्रचार से रोकने के इरादे से किया गया यह प्रयास है. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने यह भी आरोप लगाया कि यह नोटिस उन्हें बीजेपी के इशारे पर भेजा गया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का ED को जवाब देते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी का राष्ट्रीय संयोजक और स्टार प्रचारक होने के नाते मुझे चुनाव प्रचार के लिए यात्रा करनी पड़ती है और आप के अपने क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं को राजनीतिक मार्गदर्शन प्रदान करना पड़ता है. दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में मेरे पास शासन और आधिकारिक प्रतिबद्धताएं हैं जिनके लिए मेरी उपस्थिति आवश्यक है.

अरविंद केजरीवाल को ईडी फिर से भेजेगा समन

आधिकारिक सूत्र के हवाले से पीटीआई ने खबर दी कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आबकारी नीति मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी के समक्ष पेश नहीं हुए, एजेंसी द्वारा उन्हें फिर से समन भेजने की संभावना है.

विपक्ष के नेताओं को चुप कराने की कोशिश

इस बीच आप ने आरोप लगाया है कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी लोकसभा चुनाव से पहले विपक्ष के नेताओं को चुप कराने की बीजेपी की कोशिश है. आपको बता दें कि ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग संबंधी एक मामले की जांच के तहत दिल्ली के कैबिनेट मंत्री और पार्टी नेता नेता राज कुमार आनंद के परिसरों और कुछ अन्य स्थानों पर गुरुवारको छापा मारा. ‘आप’ ने इसी छापेमारी को लेकर उक्त प्रतिक्रिया दी. ‘आप’ नेता और कैबिनेट मंत्री सौरभ भारद्वाज ने एक वीडियो मैसेज जारी किया और कहा कि ब्रिटिश शासनकाल के दौरान भी पुलिस छापेमारी की अनुमति लेने के लिए अदालत जाया करती थी. लेकिन आज ईडी छापे मारने का खुद ही फैसला ले लेती है. यह विपक्ष की आवाज को चुप कराने का षड्यंत्र मात्र है.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को ईडी के समन पर बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव दुष्यंत गौतम ने कहा कि जब संवैधानिक एजेंसियां आपको बुलाती हैं तो आपको जाकर स्पष्ट करना चाहिए कि ईडी ने आपको क्यों बुलाया है ? इसका कारण यह है कि जो नेता (जेल के) अंदर हैं. उनके खिलाफ कुछ सबूत तो होंगे ही. देश संविधान के मुताबिक चलेगा. ईडी कार्यालय न जाना मेरे ख्याल से दुर्भाग्यपूर्ण है. वे चुनाव प्रचार के लिए मध्य प्रदेश गए हैं, यह अच्छा है. उन्होंने अपने ड्राइवर, पायलट को भी अपने साथ ले लिया है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.