Andhra Pradesh Scam: चंद्रबाबू नायडू की हाउस कस्टडी की याचिका खारिज, करोड़ों के भ्रष्टाचार का है आरोप

35

आंध्र प्रदेश में विजयवाड़ा की एक निचली अदालत ने करोड़ों रुपये के कथित घोटाले से संबंधित मामले में गिरफ्तार तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू की नजरबंदी की याचिका मंगलवार को खारिज कर दी. नायडू के वकील जयकर मट्टा ने ‘बताया कि नजरबंदी का अनुरोध खारिज कर दिया गया.

जेल में खतरे की आशंका को लेकर दायर की गयी थी याचिका

चंद्रबाबू नायडू का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा के नेतृत्व में वकीलों की एक टीम ने खतरे की आशंका का हवाला देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री को घर में हिरासत में रखने के लिए सोमवार को एक याचिका दायर की थी. नायडू को ‘जेड-प्लस’ श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है.

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में हैं चंद्रबाबू नायडू

गौरतलब है कि आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू फिलहाल 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में हैं. उनपर कथित कौशल विकास निगम करोड़ों रुपये घोटाले का आरोप है.

राजामहेंद्रवरम केंद्रीय कारागार में बंद हैं नायडू

तेलुगु देशम पार्टी (तेदेपा) के प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू को विजयवाड़ा की एक अदालत द्वारा करोड़ों रुपये के कथित भ्रष्टाचार मामले में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद रविवार देर रात राजामहेंद्रवरम केंद्रीय कारागार ले जाया गया. नायडू विजयवाड़ा से पूर्वी गोदावरी जिले के राजामहेंद्रवरम तक लगभग 200 किलोमीटर की यात्रा के बाद जेल पहुंचे थे. पूर्वी गोदावरी जिले के पुलिस अधीक्षक पी जगदीश ने बताया, चंद्रबाबू नायडू रविवार देर रात करीब एक बजकर 20 मिनट पर जेल पहुंचे.

जेल में घर का बना खाना, दवाएं और विशेष कमरा में रहने की मिली इजाजत

न्यायिक हिरासत के दौरान नायडू को अदालत द्वारा दी गई सुविधाओं में घर का बना खाना, दवाएं और एक विशेष कमरा शामिल है. 73 वर्षीय पूर्व मुख्यमंत्री को उनके जीवन को कथित संभावित खतरे के मद्देनजर जेल के अंदर रहने के लिए अलग स्थान उपलब्ध कराया गया है. नायडू के बेटे और तेदेपा महासचिव नारा लोकेश अपने पिता के साथ साथ जेल के गेट तक गए और वहां से जाने से पहले कुछ देर तक बाहर इंतजार करते रहे.

चंद्रबाबू नायडू पर 370 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप

आंध्र प्रदेश के अतिरिक्त महाधिवक्ता पी सुधाकर रेड्डी ने बताया, यह 370 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का स्पष्ट मामला है. आंध्र प्रदेश के अपराध जांच विभाग (सीआईडी) के प्रमुख एन संजय ने कहा था कि नायडू को कौशल विकास निगम में धन के कथित दुरुपयोग से जुड़े धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार किया गया है, जिससे राज्य सरकार को 300 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ.

चंद्रबाबू नायडू को सीआईडी की टीम ने शनिवार को किया था गिरफ्तार

गौरतलब है कि सीआईडी के दल ने आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री को शनिवार सुबह करीब छह बजे नंदयाल शहर के ज्ञानपुरम स्थित आर के फंक्शन हॉल के बाहर से गिरफ्तार किया था. नायडू को उस समय गिरफ्तार किया गया था, जब वह सभी सुविधाओं से लैस अपनी बस में सो रहे थे.

टीडीपी ने चंद्रबाबू नायडू की गिरफ्तारी को बताया साजिश

टीडीपी के एक वरिष्ठ नेता ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर कहा था, 10 सितंबर को नायडू दंपती की शादी की सालगिरह थी और नौ सितंबर को टीडीपी प्रमुख को अवैध तरीके से गिरफ्तार किया गया. उन्हें रात भर सीआईडी कार्यालय में बैठाने की साजिश रची गई. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने दंपति को उनकी शादी की सालगिरह की खुशी से वंचित कर दिया.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.