‘तो क्या पाकिस्तान के पीएम करेंगे संसद भवन का उद्घाटन’, कांग्रेस नेता ने दे दी विपक्ष को ऐसी नसीहत

46

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 28 मई को देश के नये संसद भवन का उद्घाटन करेंगे. लेकिन इससे पहले विपक्षी दल ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया है. 20 विपक्षी दलों ने उद्घाटन समारोह का सामूहिक विरोध करने का ऐलान किया है. विपक्षी दल नये संसद भवन का उद्घाटन राष्ट्रपति से कराने की मांग पर अड़े हैं. विरोध में शामिल कांग्रेस पार्टी के एक नेता ने सभी विपक्षी दलों को नसीहत दे डाली है. आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि संसद भवन का उद्घाटन देश के प्रधानमंत्री नहीं करेंगे, तो क्या पाकिस्तान के पीएम करेंगे.

मोदी का विरोध ठीक, लेकिन देश का विरोध ठीक नहीं : आचार्य प्रमोद कृष्णम

कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने नये संसद भवन के उद्घाटन को लेकर हो रहे विरोध के बीच ट्वीट किया और कहा, मोदी का विरोध तो ठीक है, लेकिन देश को विरोध ठीक नहीं है. उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में कहा, संसद भारत की धरोहर है, भाजपा का नहीं है. उन्होंने आगे कहा, भारत की संसद का उद्घाटन भारत के प्रधानमंत्री द्वारा नहीं किया जाएगा, तो क्या इसका उद्घाटन पाकिस्तान के प्रधान मंत्री द्वारा किया जाएगा? हमें मोदी का विरोध करने का अधिकार है लेकिन देश का विरोध करना सही नहीं है. मैं विपक्ष से अपने फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील करता हूं.

कांग्रेस, सहित 20 विपक्षी पार्टियों ने नये संसद भवन के उद्घाटन समारोह का बहिष्कार करने का किया ऐलान

कांग्रेस सहित 20 विपक्षी दलों ने संसद के नये भवन के उद्घाटन समारोह का सामूहिक रूप से बहिष्कार करने का ऐलान किया है. विपक्ष का आरोप है कि केंद्र की मौजूदा सरकार के तहत संसद से लोकतंत्र की आत्मा को निकाल दिया गया है तथा समारोह से राष्ट्रपति को दूर रखने का अशोभनीय कृत्य सर्वोच्च संवैधानिक पद का अपमान और लोकतंत्र पर सीधा हमला है.

कांग्रेस सहित इन पार्टियों ने किया बहिष्कार

कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, द्रविड मुन्नेत्र कषगम (द्रमुक), जनता दल (यूनाइटेड), आम आदमी पार्टी(आप), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी(माकपा), समाजवादी पार्टी (सपा), राष्ट्रीय जनता दल (राजद), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने उद्घाटन समारोह का संयुक्त रूप से बहिष्कार करने की घोषणा की है. समारोह का संयुक्त रूप से बहिष्कार करने वाले दलों में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, झारखंड मुक्ति मोर्चा, नेशनल कांफ्रेंस, केरल कांग्रेस (मणि), रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी, विदुथलाई चिरुथिगल काट्ची (वीसीके), मारुमलार्ची द्रविड मुन्नेत्र कषगम (एमडीएमके) और राष्ट्रीय लोकदल भी शामिल हैं. इनके अलावा, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने भी उद्घाटन समारोह का बहिष्कार करने की घोषणा की है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.