Aadhaar Verification: अब बिना इंटरनेट की भी संभव है आधार वेरिफिकेशन, जानें क्या पूरा प्रोसेस

5

Aadhaar Verification: हर भारतीय के लिए आधार कार्ड एक अहम दस्तावेज बन गया है. सरकार के द्वारा दी गयी ये सबसे अहम पहचान पत्र है. इसमें हमारे नाम, पता के अलावा बायोमेट्रिक जानकारी भी दर्ज है. केंद्र सरकार के द्वारा आमलोगों के लिए इस सेवा लगातार बेहतर और आसान बनाने की कोशिश की जा रही है. आधार कार्ड भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) के द्वारा जारी किया जाता है. अगर, आधार कार्ड में किसी तरह की गलत जानकारी है तो उसमें सुधार भी कराया जा रहा है. इसकी कड़ी में संस्थान के द्वारा एक नया फीचर लॉच किया है, जिसकी मदद से आप बिना इंटरनेट के भी अपने आधार को वेरिफाई करा सकते हैं. इसके बारे में UIDAI ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर जानकारी दी है.

सुरक्षित होगा ऑफलाइन आधार वेरिफिकेशन

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कहा कि आधार के सभी रूपों में एक सुरक्षित और वेरिफिकेशन योग्य क्यूआर कोड है. यह सुविधा यूजर्स को अपने mAadhaar ऐप का उपयोग करके QR कोड को स्कैन करके आधार के किसी भी रूप को आसानी से वेरिफाई करने में मदद करेगी. mAadhaar को 2017 में लॉच किया गया था. आधार कार्ड धारक किसी भी समय इससे अपने आधार कार्ड को एक्सेस कर सकते हैं. सके अलावा, ऐप आधार डिटेल सुरक्षित करने और धोखेबाजों को दूर रखने में भी मदद करता है. ये एड्रॉइड और आई फोन यूजर के लिए अलग-अलग उपलब्ध है.

क्या है mAadhaar

mAadhaar को मोबाइल आधार के रूप में भी जाना जाता है, एक डिजिटल आधार कार्ड है जिसे भारतीय नागरिक अपने मोबाइल डिवाइस पर डाउनलोड और प्रदर्शित कर सकते हैं. यह एक आधिकारिक आधार कार्ड की तरह कार्य करता है, लेकिन इसे आपके मोबाइल डिवाइस पर आसानी से उपयोग कर सकते हैं और आवश्यकता होने पर अपनी पहचान और विवरण को साझा कर सकते हैं. mAadhaar का उपयोग विभिन्न सेवाओं और योजनाओं के लिए किया जा सकता है. इससे आपके मोबाइल डिवाइस पर आसानी से आधार कार्ड डाउनलोड हो जाता है. mAadhaar एक डिजिटल प्रारूप में आधार कार्ड को प्रस्तुत करता है, जिसमें आपकी व्यक्तिगत जानकारी जैसे कि नाम, पता, जन्मतिथि, आधार नंबर, और फोटो शामिल होते हैं. ये उपयोगकर्ताओं को डिजिटल बचत खातों की विवरणी, डिजिटल बीमा पॉलिसी, और विभिन्न सरकारी योजनाओं का भी प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करता है. एप में आपके बायोमेट्रिक डेटा जैसे कि उंगलियों की छायांकन (फिंगरप्रिंट) और आँखों का स्कैन (आँखों की छायांकन) भी शामिल होता है, जो आपकी पहचान की पुष्टि करने के लिए उपयोग होता है. mAadhaar को आप अपने बैंक खाते से लिंक कर सकते हैं और इसका उपयोग वित्तीय लेन-देन में कर सकते हैं.

mAadhaar कैसे काम करता है

डिजिटल आधार कार्ड है जिसे आप अपने मोबाइल डिवाइस पर डाउनलोड कर सकते हैं और उपयोग कर सकते हैं. यह एक आधार कार्ड की तरह कार्य करता है, लेकिन इसे डिजिटल रूप में प्रदर्शित किया जाता है और आपके मोबाइल डिवाइस पर उपयोग करने की सुविधा प्रदान करता है. सबसे पहले, आपको अपने मोबाइल डिवाइस पर “mAadhaar” ऐप्लिकेशन को इंस्टॉल करना होगा. यह ऐप Android और iOS प्लेटफ़ॉर्म्स के लिए अलग-अलग उपलब्ध हो सकता है. ऐप को इंस्टॉल करने के बाद, आपको अपना मोबाइल नंबर और आधार नंबर द्वारा रजिस्टर करना होगा. रजिस्टर करने के बाद, आपको एक OTP (One-Time Password) प्राप्त होगा जो ऐप के विशिष्टीकरण के लिए होता है. एक बार जब आपका रजिस्ट्रेशन पूरा हो जाता है और आप OTP द्वारा सत्यापित होते हैं, तो आप अपने मोबाइल डिवाइस पर अपना आधार कार्ड देख सकते हैं और इसकी प्रतिलिपि को प्रदर्शित कर सकते हैं. मोबाइल आधार ऐप में आपके बायोमेट्रिक डेटा, जैसे कि उंगलियों की छायांकन (फिंगरप्रिंट) और आंखों का स्कैन (आंखों की छायांकन) भी शामिल होता है, जो आधार की पुष्टि के लिए उपयोग होता है. आप अपने mAadhaar कार्ड को विभिन्न सरकारी योजनाओं में प्राप्त करने और वित्तीय लेन-देन में उपयोग कर सकते हैं.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.