9000 मोबाइल फोन नंबर की जांच से सामने आ सकता है दिल्ली हिंसा का सच 

0 59

गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के दिन किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुए उपद्रव के मामले में दिल्ली पुलिस ने विभिन्न मोबाइल कंपनियों के 9000 मोबाइल नंबर का डंप डाटा उठाया है। ये मोबाइल नंबर लाल किले के आसपास 26 जनवरी को सक्रिय थे। उक्त सभी नंबरों की पुलिस टीम जांच में जुटी हुई है। उधर, घटना वाले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आपत्तिजनक पोस्टर बनाकर लाल किले पर प्रदर्शन करने वाले फरीदाबाद के रहने वाले आरोपित की दिल्ली पुलिस ने पहचान कर ली है। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की एक टीम उसे दबोचने के लिए फरीदाबाद गई है। लाल किले में तोड़फोड़ के मामले में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के सर्वे के बाद विभाग की शिकायत पर कोतवाली थाने में उपद्रवियों के खिलाफ एक अन्य एफआइआर भी दर्ज कर ली गई है।

कुल 509 पुलिसकर्मी घायल हुए

पुलिस आयुक्त एस एन श्रीवास्तव ने मंगलवार को पीतमपुरा के अस्पताल में घायल पुलिसकर्मियों के हालचाल लेने के दौरान कहा कि 26 जनवरी को दिल्ली में हुए उपद्रव में कुल 509 पुलिसकर्मी घायल हुए थे। इनमें अधिकतर को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है। सभी सीसीटीवी फुटेज, कैमरे व मोबाइल फोन से बनाए गए वीडियो व तस्वीरों की जांच के लिए एक डीसीपी के नेतृत्व में अलग टीम बनाई गई है। उपद्रव मामले में दर्ज एफआइआर की संख्या अब 39 हो गई है। नांगलोई में दर्ज तीन अन्य मामले को भी जांच के लिए क्राइम ब्रांच की एसआइटी के पास भेज दिया गया है। ऐसे में क्राइम ब्रांच की एसआइटी अब 13 विशेष मामलों की जांच करेगी।


इनाम रखने का निर्णय

दिल्ली पुलिस के रडार पर जुगराज सिंह के अलावा पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू व पंजाब के गैंगस्टर लखवीर सिंह उर्फ लक्खा सिधाना भी हैं। जुगराज ने खंभे पर चढ़कर झंडा फहराया था। दीप व लक्खा ने उपद्रवियों का नेतृत्व किया था। लिहाजा इन तीनों पर पुलिस आयुक्त ने इनाम रखने का निर्णय लिया है। इनाम की घोषणा जल्द ही की जाएगी।

वहीं, सिंघु बार्डर पर पुलिस अधिकारी के साथ बदसलूकी के आरोप में गिरफ्तार किए गए स्वतंत्र पत्रकार मनदीप पुनिया को मंगलवार को रोहिणी जिला अदालत से जमानत मिल गई है। अदालत ने 25 हजार रुपये के निजी मुचलके पर उन्हें जमानत दी है। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट सतबीर सिंह लाम्बा ने कहा कि शिकायतकर्ता, पीड़ित और गवाह सभी पुलिसकर्मी हैं।