7 आतंकियों ने बरसायी ताबड़तोड़ गोलियां, ग्रेनेड से भी किया हमला, जानें 10 बड़ी बातें

97

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में गुरुवार को हुए आतंकवादी हमले में पांच जवान शहीद हो गये. हमले के बाद बाटा-डोरिया क्षेत्र के जंगल में सुरक्षाबलों ने बड़ा तलाशी अभियान शुरू किया है. सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है. ड्रोन और खोजी कुत्तों की मदद आतंकियों की तलाश की जा रही है. सुरक्षाबलों ने सीमावर्ती राजौरी और पुंछ जिलों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है. साथ ही नियंत्रण रेखा के पास कड़ी सतर्कता बरती जा रही है.

जम्मू कश्मीर के पुंछ में हुए आतंकी हमले की जांच एनआईए कर रही है. इस हमले में आतंकियों ने करीब 50 राउंड फायरिंग की थी. बता दें, जम्मू कश्मीर के राजौरी सेक्टर में भीमबेर गली और पुंछ के बीच सेना का वाहन हाईवे से गुजर रहा था, इसी दौरान वाहन पर आतंकवादियों ने पहले गोलीबारी की, फिर ग्रेनेड से हमला कर दिया. बताया जा रहा है कि करीब 7 आतंकियों ने हमला को अंजाम दिया. हमले की 10 बड़ी बातों की हम आपको जानकारी दे रहे हैं.

10 बड़ी बातें:-
जम्मू कश्मीर के राजौरी सेक्टर में भीमबेर गली और पुंछ के बीच सेना का वाहन हाईवे से गुजर रहा था, इसी दौरान वाहन पर आतंकवादियों ने पहले गोलीबारी की, फिर ग्रेनेड से हमला कर दिया.

हमले के बाद आर्मी वाहन के तेल टैंकर में आग लग गई, जिसके बाद पूरा वाहन धू-धू कर जलने लगा.

हमले के बाद भारतीय सेना ने ड्रोन और निगरानी हेलीकॉप्टरों के साथ कई विशेष बल टीमों को लॉन्च किया है जो संदिग्ध क्षेत्र में तलाशी और अभियान को नष्ट कर रहे हैं. सेना, पुलिस और खुफिया एजेंसियों सहित सुरक्षा बल अभियानों का समन्वय कर रहे हैं.

जम्मू कश्मीर के पुंछ में हुए आतंकी हमले में सेना के 5 जवान शहीद हो गए. सुरक्षा एजेंसियों को इनपुट मिला है कि हमले के बाद से उसी इलाके में पाकिस्तान के कुल 7 आतंकी अलग-अलग ग्रुप में छिपे हुए हैं.

जवानों पर आतंकी हमले की जांच के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी और 8 सदस्यीय फोरेंसिक टीम पुंछ पहुंच गई है. इससे पहले बम डिसपोजल स्क्वॉड और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप की टीम ने सुबह पूरे इलाके में जांच की.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आतंकियों ने जिन गोलियों का इस्तेमाल किया था वो मेड इन चाइना थी. आतंकी हमले की जिम्मेदारी जैश समर्थित पीएएफएफ यानी पीपल्स एंटी फासिस्ट फ्रंट ने ली है.

रक्षा सूत्र के हवाले से खबर है कि सेना और सुरक्षा एजेंसियों को राजौरी-पुंछ सेक्टर में उस इलाके के पास दो समूहों में सक्रिय 6 से 7 आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिली है, जहां कल घटना हुई थी. यह समूह कल पुंछ सेक्टर में भारतीय सेना के वाहन पर घात लगाकर हमला करने में शामिल था जिसमें 5 जवान शहीद हो गए थे.

रक्षा स्त्रोत के मुताबिक, आतंकियों के लश्कर के होने और पाकिस्तान के होने का संदेह है. जांच टीम क्षेत्र में आतंकियों के प्रवेश करने के रास्ते के बारे में पता लगाने की कोशिश कर रही है. उस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर खोज की जा रही है यहां कई गुफा-प्रकार की प्राकृतिक संरचनाएं मौजूद हैं.

जम्मू कश्मीर में जी-20 टूरिज्म वर्किंग ग्रुप की बैठक आयोजित हो रही है. पाकिस्तान इसका विरोध कर रहा है. ऐसे में बैठक में खलल डालने के लिए आतंकी इतने बड़े हमले को अंजाम दिया है.

जैश समर्थित आतंकी समूह पीपुल्स एंटी-फासिस्ट फ्रंट (PAFF) ने आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली है.

Source link

Get real time updates directly on you device, subscribe now.