4 मई से शुरू होंगी सीबीएसई बोर्ड परीक्षाएं, 15 जुलाई को जारी होंगे नतीजे

0 131


लंबे इंतजार के बाद आखिरकार सीबीएसई बोर्ड परीक्षा की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है। शिक्षा मंत्री ने एक सेशन के दौरान बताया कि बोर्ड परीक्षाएं 4 मई से शुरू होकर 10 जून तक, 2021 तक चलेगी। वहीं परीक्षा का परिणाम जुलाई में घोषित करने की संभावना है। इसके अलावा प्रैक्टिकल परीक्षाएं भी मार्च में कराई जाएंगी।


@ 6:10 PM 4 मई से परीक्षाएं और 15 जुलाई को रिजल्ट संभावित

शिक्षामंत्री ने सीबीएसई बोर्ड परीक्षा की तारीखों का ऐलान कर दिया है। इसके मुताबिक यह परीक्षाएं 4 मई से शुरू होकर 10 जून 2021 तक चलेगी। वहीं 15 जुलाई को रिजल्ट की घोषणा की जाएगी।

@ 6:05 PM

शिक्षा मंत्री ने वेबिनार किया शुरू

@6 PM शिक्षा मंत्री ने ट्वीट करके दी थी जानकारी

5:55 PM

शिक्षा मंत्री करेंगे घोषणा शिक्षा

मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक बस कुछ देर में सीबीएसई 2021 की बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों की घोषणा करेंगे।


केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा 2021 में शामिल होने वाले कैंडिडेट्स लंबे समय से परीक्षा की डेटशीट जारी होने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि, अब इन उम्मीदवारों का इंतजार जल्द ही खत्म होने वाला है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ आज शाम 6 बजे सीबीएसई की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा 2021 की तारीखों का ऐलान करेंगे।

शिक्षा मंत्री द्वारा सीबीएसई कक्षा 10 और 12 बोर्ड परीक्षा 2021 की तारीखों की घोषणा को लेकर आज छात्रों की उम्मीदें और अपेक्षाएं अधिक हैं। इससे पहले शिक्षा मंत्री ने घोषणा की थी की परीक्षाओं का आयोजन जनवरी-फरवरी में संभव नहीं है। तो क्या परीक्षाएं मार्च से आयोजित की जाएंगी या फिर उन्हें मई में धकेल दिया जाएगा? छात्रों को प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए अधिक समय मिलेगा या परीक्षा के बीच में बड़ा अंतराल होगा? शिक्षा मंत्री के आज की घोषणा में छात्रों को इन सभी सवालों के जवाब मिलने उम्मीद की जा रही है।


देखा जाए तो आमतौर पर कक्षा 10 और 12 के छात्रों के लिए सीबीएसई बोर्ड परीक्षा प्रैक्टिकल परीक्षाओं से प्रारंभ होती है। कक्षा 10 के छात्रों के लिए मूल्यांकन आंतरिक है, जबकि कक्षा 12 के लिए एक बाहरी परीक्षक आवंटित किया जाता है। बोर्ड के अधिकारियों द्वारा पुष्टि की गई है कि सीबीएसई कक्षा 12 के प्रैक्टिकल एग्जाम के लिए बाहरी परीक्षक अभी भी प्रतिनियुक्त किए जाएंगे। चूंकि यह स्पष्ट है कि बोर्ड परीक्षा फरवरी 2021 तक आयोजित नहीं की जाएगी। तो ऐसे में शिक्षकों और विशेषज्ञों को उम्मीद है कि मार्च महीने में सीबीएसई बोर्ड की प्रैक्टिकल परीक्षा आयोजित की जा सकती है। हालांकि, प्रैक्टिकल परीक्षा आयोजित करने के लिए बोर्ड द्वारा दिए गए सामान्य 1 महीने के अलावा, स्कूलों को अधिक समय दिए जाने की भी उम्मीद की जा रही है।


शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने अपने पूर्व के संबोधन कहा था कि बोर्ड छात्रों को दो परीक्षाओं के बीच पर्याप्त ‘अंतराल’ देने पर विचार करेगा। इसका अर्थ यह है कि सीबीएसई कक्षा 10 और 12 के थ्योरी पेपर के लिए विस्तारित समय सारणी हो सकता है। हालांकि, दो विषयों के बीच समय अंतराल को बढ़ाने से परीक्षा का आयोजन लंबे समय तक करना पड़ सकता है, जिसे आमतौर पर पूरा होने में लगभग 40 से 50 दिन लगते हैं। बता दें कि सीबीएसई ने एक कक्षा में अधिकतम 12 छात्रों को अनिवार्य किया है। इसे ध्यान में रखते हुए, 20 कक्षाओं के साथ किसी भी केंद्र में औसतन 200 से 250 छात्रों को समायोजित किया जा सकता है। अधिकांश स्कूलों के लिए, महामारी से सुरक्षा के मद्देनजर छात्रों के बीच निश्चित दूरी रखना एक कठिन कार्य होगा। सिर्फ कुछ बड़े स्कूल 400 से 500 छात्रों को समायोजित कर पाएंगे। इसलिए, कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि छात्रों की सीमा को प्रबंधित करने के लिए, सीबीएसई कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं के लिए अलग-अलग तारीखों का सहारा ले सकता है।


वहीं, कुछ एक्सपर्ट का यह भी मानना है कि परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ाना इतना आसान नहीं है। हर अतिरिक्त कमरे में अतिरिक्त मैन पावर और सुविधाओं की आवश्यकता होती है। पहले एक कमरे में प्रत्येक 24 छात्रों के लिए दो शिक्षक थे। फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हैं कि सीबीएसई 12 छात्रों के लिए दो शिक्षकों को बनाए रखेगा, या नहीं। यह प्रबंधन के लिए एक समस्या हो सकती है। इसके साथ ही, एक स्कूल में छात्रों की कुल संख्या भी आधी हो सकती है। बहरहाल, आज तारीखों की घोषणा के बाद इन सब सवालों के जवाब अपेक्षित हैं। यह भी देखा जाना है कि आज टाइम टेबल जारी किया जाएगा या नहीं। माना जा रहा है कि शिक्षा मंत्री की घोषणा बाद सीबीएसई बोर्ड परीक्षा डेटशीट 2021 को बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट, cbse.nic.in पर उपलब्ध कराया जाएगा।