हाईस्कूल व कालेज खुले, पहले दिनों छात्र-छात्राओं की रही कमी

0 38


कोरोना संक्रमण से बचाव को देखते हुए बंद रहे हाईस्कूल व कालेज शुक्रवार से खोल दिए गए। राज्य सरकार के स्कूल व गण शिक्षा विभाग ने स्कूल व कालेज प्रबंधन को कोविड गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए पढ़ाई शुरू करने के निर्देश दिए हैं। जिले में राज्य सरकार द्वारा प्रचालित तथा ऐडेड ओडिया माध्यम स्कूल कुल 102 है। इनमें दसवी में भी अध्यनरत छात्र-छात्राओं की संख्या 5850 है। वहीं कुछ निजी ओडिया स्कूलों को मिलाकर कुल छात्र-छात्राओं की संख्या 6901 है। दूसरी ओर जिले में अग्रेंजी माध्यम से चलने वाली स्कूलों व उनमें पढ़ने वालों बच्चों की संख्या शिक्षा विभाग के पास नहीं है। इस बात की जानकारी देते हुए जिला शिक्षा अधिकारी कल्पना पंडा ने बताया कि जिले में 21 सरकारी अनुदान प्राप्त व तीन निजी जूनियर कॉलेज हैं। इनमें प्लस टू कला में 2550, विज्ञान 1120 व वाणिज्य में 456 कुल मिलाकर 4126 छात्र-छात्राएं अध्यनरत है।

जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि बच्चों को स्कूल आने से पूर्व अपन-अपने अभिभावकों से अनुमति पत्र लेकर आना होगा। साथ ही उन्हें अपने साथ मास्क, सैनिटाइजर और खाना भी लाना होगा। स्कूल में हर हाल में शारीरिक दूरी का पालन करना होगा। कोविड नियम के अनुसार एक कक्षा में 20 से 25 छात्र-छात्राओं को ही बैठने की अनुमति दी गयी है। इसके अलावा स्कूलों में प्रार्थना अगले आदेश तक नहीं की जाएगी। उन्होंने बताया कि स्कूलों में गाइडलाइन का पालन हो रहा है कि नहीं इसके लिए जिलास्तर व प्रखंड स्तर पर मानिटरिंग टीम गठित की गई है जो स्कूलों में जाकर औचक निरीक्षण करेगी।

झारसुगुडा़ शहर के पुराना बस्ती स्थित एमपीएल नोडल हाईस्कूल के प्रधानाध्यापक हेमन्त त्रिपाठी ने बताया कि स्कूल सुबह दस बजे से चार बजे तक खुला रहेगा। शिक्षा विभाग ने सभी स्कूलों को 100 दिन का प्रोग्राम जारी किया है। इसके मुताबिक, इस बार 100 की जगह 80 नंबर के प्रश्न पत्र होंगे। जिसमें 50 नंबर का आब्जेक्टिव व 30 नंबर के सब्जेक्टिव प्रश्न होंगे। स्कूल में कोविड नियम के मुताबिक, एक कक्षा में 25 बच्चों को बैठने की व्यवस्था की गयी है। स्कूल खुलने के पहले दिन बच्चों को अनिवार्य रूप से अपने साथ मास्क, सैनिटाइजर साथ लाने के लिए कहा गया। डीएवी स्कूल में भी पढ़ाई शुरू हो गयी है। प्रिंसिपल प्रशांत कुमार पंडा ने बताया कि स्कूल आये बच्चों का पहले थर्मल स्क्रिनिंग किया गया। साथ ही सभी कक्षाओं समेत स्कूल परिसर को को सैनिटाइज किया गया।