शिक्षा के मंदिरों में लौटी खोई रौनक, अध्यापन को लेकर दिखी उत्सुकता

0 26


11 माह से बंद चल रहे बेसिक विद्यालयों का नजारा सोमवार को बिल्कुल अलग दिख। कोविड महामारी के चलते शिक्षा के मंदिरों की खोई रौनक को वापस लाने के लिए काफी इंतजाम किए गए।

स्कूलों के गेट पर खड़े शिक्षकों द्वारा टीका लगाकर नौनिहालों का स्वागत करना और खानपान की बेहतर व्यवस्था सब कुछ अतुलनीय रहा। रोस्टर के हिसाब से बुलाए गए छात्रों को शारीरिक दूरी के तहत बैठाकर पठन-पाठन शुरू कर दिया। संख्या के हिसाब से पहले दिन छात्रों की उपस्थित भले ही कम रही हो, लेकिन अध्यापन कार्य को लेकर छात्रों व अभिभावकों में उत्सुकता साफ देखी गई।


दूबेपुर के प्राथमिक विद्यालय अहिमाने में कक्षा एक में 15 व कक्षा पांच में 18 बच्चे उपस्थित रहे। खंड शिक्षाधिकारी केके सिंह द्वारा कई विद्यालयों का दौराकर तैयारियों का जायजा लिया गया। सेमरी बाजार के प्राथमिक विद्यालय सुमेरपुर, चांदपुर, नगइपुर, सेमरी द्वितीय, सेमरी प्रथम, जयसिंहपुर खुर्द पर शिक्षकों, बच्चों में प्रसन्नता देखी गई। लम्भुआ शिक्षा क्षेत्र के पठखौली कंपोजिट विद्यालय में गंदगी का अंबार लगा हुआ था। दो शिक्षक भी मौके पर नदारद पाए गए। रामपुर कुर्मियान कंपोजिट विद्यालय में शिक्षिकाएं रंगोली बनाने में व्यस्त देखी गईं। पीपी कमैचा के प्राथमिक विद्यालय मदारडीह में साबुन से हाथ धुलवा कर शिक्षण कार्य शुरू किया गया। रामनगर के परिषदीय विद्यालय में अभिभावक गोष्ठी का आयोजन किया गया। कूरेभार, जयसिंहपुर, दोस्तपुर, कादीपुर, मोतिगरपुर, धनपतगंज, कुड़वार में भी नौनिहालों का स्वागत कर पढ़ाई की शुरुआत कर दी गई।

अभिभावकों ने काटा फीता : दूबेपुर विकास खंड के बंधुआ कलां स्थित प्राथमिक विद्यालय की एक दिन पहले ही साफ-सफाई कर दी गई थी। प्रधानाचार्य अब्दुल मजीद की मौजूदगी में दो अभिभावकों से फीता कटवाकर विद्यालय में छात्रों को प्रवेश दिलाया गया। यहां नौनिहालों को हलवा पूड़ी व फल की व्यवस्था की गई।

पुष्प वर्षा के साथ उतारी आरती : बल्दीराय के कंपोजिट विद्यालय पांडेयपुर कांपा में छात्र-छात्राओं पर पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। मंत्रोच्चार के साथ छात्रों की आरती उतारी गई और माला-फूल पहनाकर उनका स्वागत किया गया।

अन्य कक्षाओं के पहुंचे छात्र, किए गए वापस : सोमवार को कक्षा एक व पांच के 50 फीसद छात्रों को ही बुलाया गया था। अध्यापकों द्वारा अभिभावकों से जानकारी साझा न करने पर अन्य कक्षाओं के छात्र भी स्कूल पहुंच गए। भदैंया व कुड़वार विकास खंड के कई स्कूलों में भी यही हाल रहा।

बैंड बाजे की भी व्यवस्था : भदैंया विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय सकरसी में छात्रों के स्वागत के लिए बैंड बाजे की व्यवस्था की गई थी। देशभक्ति व प्रेरणादायी धुनों के साथ नौनिहालों का माला पहनाकर स्वागत किया गया। अभिभावकों और छात्रों को मिठाई का भी वितरण किया गया।

कोरोना के प्रति किया जागरूक : मॉडल प्राथमिक स्कूल भरसारे की प्रधानाध्यापिका वंदना यादव व शिक्षिका दीक्षा श्रीवास्तव की अगुवाई में कोरोना से बचाव संबंधी बचाव मॉडल बनाकर जागरूक किया गया। छात्रों की तरफ से शारीरिक दूरी बरतने के साथ मास्क लगाने की भी अपील की गई।