वोकेशनल कोर्सेज को डिग्री से जोड़ेगा कौशल विश्विविद्यालय : मनीष सिसोदिया

0 76


वोकेशनल कोर्सेज के प्रति समाज का नजरिया बदलना जरूरी है। इनसे रोजगार और व्यवसाय के शानदार अवसर निकलते हैं। यह कहना है उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का। बारहवीं में शानदार प्रदर्शन करने वाले वोकेशनल कोर्सेज के छत्रों से शुक्रवार को संवाद करते हुए उन्होंने कहा कि अक्सर इन्हें हेय ²ष्टि से देखा जाता है। सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली कौशल एवं उद्यमिता विश्वविद्यालय में इन कोर्सेज को डिग्री से जोड़ा जाएगा। तब इनके प्रति धारणा बदलेगी और छात्रों को पूरा लाभ होगा। उन्होंने कहा कि आप लोग जब शानदार नौकरी या व्यवसाय करेंगे, तो अन्य छात्र आपको रोल मॉडल और उदाहरण के रूप में देखेंगे। वोकेशनल कोर्सेज को कम आंकने की प्रवृत्ति से बाहर निकलना होगा। विकसित देशों में इन कोर्सेज को काफी सम्मान की नजर से देखा जाता है।

उपमुख्यमंत्री के साथ संवाद में ब्यूटी एंड वेलनेस, बैंकग एवं इंश्योरेंस, टाइपोग्राफी एंड कंप्यूटर एप्लिकेशन, ऑफिस प्रोसीजर, शॉर्टहैंड, टेक्सटाइल डिजाइन एवं फैशन स्टडीज, वेब एप्लिकेशन जैसे वोकेशनल विषयों के छात्र शामिल थे।


3-4 साल में बनाया जाएगा बेहतर

मनीष सिसोदिया ने कहा कि अगले तीन चार साल में वोकेशनल कोर्सेज को काफी उपयोगी और सम्मानित बनाने का लक्ष्य है। दिल्ली कौशल एवं उद्यमिता विश्वविद्यालय में किस प्रकार के कोर्स हों, इस पर आप सभी छात्र, शिक्षकों और अभिभावकों के सुझाव काफी उपयोगी होंगे।

वहीं विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ निहारिका वोहरा ने कहा कि जर्मनी, फिनलैंड जैसे देशों में वोकेशनल कोर्स को सकारात्मक देखा जाता है। हम डिग्री और डिप्लोमा कोर्स के जरिये छात्रों को नौकरी के साथ उद्यमी बनने के लिए भी तैयार करेंगे। मिला काफी कुछ सीखने को सर्वोदय कन्या विद्यालय गांधीनगर की छात्रा एकता शर्मा ने कहा कि जब मैंने वोकेशनल कोर्स लिया तो सब मजाक उड़ाते थे। अब वहीं लोग मुझे बधाई देकर कह रहे हैं कि तुम्हें उपमुख्यमंत्री का निमंत्रण मिल गया। वहीं अशोक नगर स्थित सरकारी स्कूल की छात्रा तुष्टि अरोड़ा ने कहा कि मुझे उद्यमी बनना है। ऑफिस मैनेजमेंट कोर्स से मुझे इसमें काफी मदद मिली। वह अपने पिता के हैंडीक्राफ्ट बिजनेस को अगले स्तर पर ले जाना चाहती हैं। तुष्टि ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि वोकेशनल स्टडीज को लेकर लोगों की सोच में बदलाव आएगा।