लखनऊ विश्वविद्यालय के स्थापना दिवस समारोह को आज संबोधित करेंगे प्रधानमंत्री, पीएम ने ट्वीट कर दी जानकारी

0 64


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज लखनऊ विश्वविद्यालय की स्थापना के शताब्दी दिवस समारोह को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री इस समारोह में आज शाम 5:30 में वीडियो कॉन्फेरेंसिंग के माध्यम से शामिल होंगे। इस संबंध में पीएम ने अपने ऑफिशियल ट्वीटर अकाउंट से आज ट्वीट कर जानकारी दी है। पीएम ने अपने ट्वीट में लिखा है कि आज शाम 5:30 बजे, लखनऊ विश्वविद्यालय की स्थापना के शताब्दी दिवस समारोह को संबोधित करूंगा। विश्वविद्यालय सीखने का एक प्रतिष्ठित केंद्र है और इसके छात्रों ने कई क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। प्रधानमंत्री ने इस लाइव प्रोग्राम में लोगों से जुड़ने की अपील भी की है।

बता दें कि इस संबंध में प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की ओर से पूर्व में ही जानकारी दी गई थी। स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर प्रधानमंत्री इंडिया पोस्ट द्वारा जारी एक स्मारक डाक टिकट का विमोचन करेंगे। इसके साथ ही, लखनऊ विश्वविद्यालय के सौ वर्ष पूरे होने पर विश्वविद्यालय के शताब्दी स्मारक सिक्के का अनावरण भी करेंगे।


बता दें कि लखनऊ विश्वविद्यालय की स्थापना वर्ष 1920 में हुई थी। इस वर्ष लखनऊ विश्वविद्यालय अपने 100 वर्ष पूरे कर रहा है। आज आयोजित होने वाले शताब्दी समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल व राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल होंगे। बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने हाल ही में लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह का उद्घाटन किया था। जहां उन्होंने राज्य में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के बारे में भी चर्चा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को चरणों में लागू किया जाना चाहिए। राज्य में वर्ष 2022 तक एनईपी को लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह समाज को नई ऊंचाई पर ले जाएगा और एक भारत श्रेष्ठ भारत की नींव रखेगा।


लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह के अंतर्गत रविवार को साहित्यिक उत्सव हुआ था। जिसमें फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने भी वर्चुअली हिस्सा लिया। इसके साथ ही, विश्वविद्यालय में वॉक हेरिटेज का भी आयोजन किया गया। जिसमें स्पेन से आए मेहमानों ने विश्वविद्यालय के इतिहास और आधुनिक विकास के बारे में जानकारी प्राप्त की। वहीं, बायोलॉजी के स्टूडेंट्स द्वारा पौधरोपण किया गया। लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष आयोजनों के बीच सोमवार को मध्यकालीन और आधुनिक इतिहास के प्रसिद्ध इतिहासकारों द्वारा व्याख्यान की एक श्रृंखला भी आयोजित की गई थी।