रिटर्न के मामले में Gold ने शेयर और एफडी को पछाड़ा, जानें कितना मिल रहा रिटर्न

0 89


कोरोना काल में सोना जबरदस्त चमका और इस साल करीब 30 फीसद से अधिक रिटर्न दे चुका है। बीते दस सालों में सोने ने 140 फीसद से अधिक रिटर्न दिया है। चांदी के निवेशकों को एक साल में 34 फीसद रिटर्न मिला है। बैंक एफडी की बात करें तो ब्याज दर में लगातार गिरावट जारी है। साल 2001 में बैंकों की ब्याज दर करीब नौ फीसद थी जो अब घटकर 3.65 फीसद है। साल 2001 में सोना 4000 रुपये के स्तर पर था, आज 53,000 रुपये प्रति दस ग्राम है। इस साल अगस्त में तो सोना 57 हजार रुपये प्रति दस ग्राम (स्टैंडर्ड) पर पहुंच गया था। चांदी भी जबरदस्त उछाल के साथ 75 हजार रुपये प्रति किलो के पार हो गई थी।

रायपुर सराफा के अध्यक्ष हरख मालू का कहना है कि सोना कभी भी नुकसानदायक नहीं रहा। निवेशकों के लिए यह हमेशा फायदेमंद रहा है, इसलिए दूसरे क्षेत्रों की अपेक्षा सोने में निवेश के प्रति लोगों की रुचि बढ़ती जा रही है। इसका अंदाजा अभी त्योहारी सीजन में हुई खरीदारी से भी लगाया जा सकता है। बढ़ती कीमतों का सोने की खरीदारी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा।

एफडी का हाल वित्त वर्ष ब्याज दर (एक साल की एफडी पर)

2001-02 नौ फीसद

2002-05 आठ से नौ फीसद

2005-14 सात से 8.5 फीसद

2015-16 6.90-7.25 फीसद


2018-19 6.27 फीसद

2020-21 3.65 फीसद

सोने की कीमत

साल कीमत (स्टैंडर्ड प्रति दस ग्राम रुपये में)

2001-2005 4000-7000

2006 9000

2007 10500

2008 12500

2009 14500

2010 18000

2011 25000

2012 32000


2013 33000

2014 30000

2015 29000

2016 31000

2017 32000

2018 29000


2019 39000

2020 52000

लॉकडाउन में शेयर ने दिया था झटका

भले ही अभी शेयर बाजार संभल गया है और जबरदस्त तेजी की ओर है, लेकिन इस साल मार्च में लॉकडाउन के बाद शेयर बाजार ने निवेशकों को जबरदस्त झटका दिया था। निवेशकों को नुकसान उठाना पड़ा था। मोतीलाल ओसवाल शेयर ब्रोकिंग संस्थान के विशेषज्ञ बसंत दौलतानी का कहना है कि अब शेयर बाजार सकारात्मक रुख लेने लगा है। इसके चलते निवेशक भी बढ़ने लगे हैं। हालांकि रिटर्न के मामले में सोना इस साल अव्वल रहा है।