राजपथ पर पहली बार दिखी लद्दाख की झांकी, ‘भविष्य का विजन’ रहा थीम

0 95


देश आज देशभक्ति से ओतप्रोत है क्योंकि आज ही के दिन हमारा संविधान लिखा गया था। पूरा देश आज गणतंत्र दिवस मना रहा है। इस खास अवसर पर हर साल की तरह इस साल भी परेड निकाली गई हैं। राजपथ पर सांस्कृतिक झांकियों का प्रदर्शन शुरू हो चुका है। इस परेड में सबसे आगे लद्दाख है। पहली बार केद्र शासिद प्रदेश की पहली झांकी निकाली गई है। इसमें लद्दाख की संस्कृति और सांप्रदायिक सदभाव को दर्शाया गया है। झांकी का थीम -भविष्य का विजन है।

अन्य राज्यों की भी झांकियों का प्रदर्शन जारी

राजपाथ पर अन्य राज्यों की भी झांकियों दिखाई जा रही हैं। कोरोना के चलते इस साल के गणतंत्र दिवस पर काफी कुछ बदलाव किए हैं। पहली बार कोरोना की वजह से परेड के रूट में कमी तो हुई है, लेकिन झांकियों की भव्यता बनी हुई है। इसके साथ ही ओयध्या की थीम पर यूपी की झांकी बनाई गई है, जिसमें राम मंदिर की भी झलक मिली।


कोराना के चलते हुए बदलाव


पूरा देश आज उमंग और उत्साह के साथ आज 72वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राजपथ पहुंचकर तिरंगा फहराया था। राजपथ पर आयोजित परेड में पूरी दुनिया भारत की सांस्कृतिक विरासत और सैन्य ताकत की दीदार कर रही है। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे। इसके बाद राष्ट्रगान हुआ और 21 तोपों की सलामी दी गई। सालमी के बाद ही परेड की शुरुआत हुई।


इस बार कोई अतिथि नहीं हुआ शामिल

बता दें कि कोरोना के चलते इस बार परेड में कोई मुख्य अतिथि नहीं है। ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने कोरोना के चलते अपनी यात्रा रद कर दी थी। इससे पहले 1952, 1953 और 1966 में भी गणतंत्र दिवस परेड के लिए कोई मुख्य अतिथि नहीं था।