यूरोपियन शहरों की तर्ज पर बनाई जा रही सड़कों में आ रही बाधाओं को दूर करे PWD: केजरीवाल

0 107


नई दिल्ली, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सड़कों को यूरोपियन शहरों की तर्ज पर खूबसूरत बनाने को लेकर चल रही कवायद पर पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। सीएम अरविंद केजरीवाल ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि पायलट पा्रेजेक्ट के तहत दिल्ली की चिंहित सात सड़कों पर आ रही सभी बाधाओं को यथा शीघ्र दूर किया जाए। उन्होंने कहा कि सड़कों के री-डिजाइन को लेकर कंसल्टेंट नियुक्त करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है, इस प्रक्रिया को पीडब्ल्यूडी शीघ्र पूरी करें।

इन सड़कों का विकास बिल्ट-ऑपरेट-ट्रांसफर (बीओटी) की तर्ज पर किया जाएगा और निर्माण एजेंसी 15 साल तक मेंटिनेंस की जिम्मेदारी संभालेगी। पायलट प्रोजेक्ट के तहत जिन 7 सड़कों का काम दिसंबर 2020 तक पूरा होना था, कोविड-19 की वजह से उनकी समय सीमा बढ़ा कर मार्च 2021 कर दी गई है।

दिल्ली सरकार राष्ट्रीय राजधानी की 100 फीट चैड़ी और 500 किलोमीटर लंबी सड़क को यूरोपीयन शहरों की तर्ज पर खूबसूरत बनाने पर कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सड़कों को री-डिजाइन करने की परिकल्पना की है, ताकि राजधानी की सड़कें भी दुनिया के विकसित देशों की राजधानी की सड़कों की तरह खुबसूरत दिखें। सीएम अरविंद केजरीवाल के नवंबर 2019 में पीडब्ल्यूडी के अधिकार क्षेत्र में आने वाली कुछ सड़कों को री-डिजाइन करने की मंजूरी दी थी।


इसके तहत दिल्ली सरकार ने 100 फीट चैड़ी और 500 किलोमीटर लंबी सड़क को यूरोपीयन शहरों की तर्ज पर खूबसूरत बनाने का फैसला किया है। अभी पायलट प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली की 7 सड़कों को री-डिजाइन करने को मंजूरी दी गई है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में चांदनी चैक सड़क को पायलट प्रोजेक्ट के तहत दोबारा विकसित करते हुए दिल्ली की 100 फीट चौड़ी और करीब 500 किलोमीटर लंबी सड़क तक इस योजना का विस्तार किया था। इन सड़कों का विकास बिल्ट-ऑपरेट-ट्रांसफर (बीओटी) की तर्ज पर होगा और निर्माण करने वाली कंपनी 15 साल तक मेंटिनेंस की जिम्मेदारी संभालेगी।