मोहम्मद आमिर का खुलासा, टीम मैनेजमेंट से डरता है हर खिलाड़ी, आराम मांगने पर टीम से निकाल देते हैं 

0 85

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने बोर्ड को लेकर कई बातें की है। इस गेंदबाज ने कहा कि टीम मैनेजमेंट और खिलाड़ियों को बीच बात नहीं होती है। सभी को इस बात का डर लगा रहता है कि उनको कहीं टीम से बाहर ना कर दिया जाए। आमिर ने कहा खिलाड़ी मजबूरी में खेलते जाते हैं क्योंकि किसी के अंदर छुट्टी के लिए बात करने की हिम्मत नहीं है।

आमिर ने साफ किया कि कोई भी ऐसा खिलाड़ी नहीं है जो आराम करने के लिए मैनेजमेंट से मांग करता है। जिस खिलाड़ी ने भी आराम करने की बात की उसको बाहर कर दिया जाता है। उन्होंने कहा, “परेशानी यह है कि जो खिलाड़ी पाकिस्तान क्रिकेट में इस बात को बोलने की हिम्मत जुटाता है कि वह नहीं खेलेगा, उसे टीम से बाहर कर दिया जाता है। इसी वजह से अब टीम के सभी खिलाड़ी मैनजमेंट से बात करने से भी डरते हैं।”

आगे उन्होंने कहा, टीम के खिलाड़ी और मैनजमेंट के बीच बात नहीं होती है इस चीज को खत्म करना चाहिए। उनका कहना था, “यह पाकिस्तान क्रिकेट के अंदर मानसिकता है कि खिलाड़ियों को टीम से बाहर होने से डर लगता है। मुझे लगता है कि यह जो संवाद का अभाव है इसको खिलाड़ी और मैनेजमेंट के बीच से हटाया जाना चाहिए।”


आमिर ने कहा जो भी ब्रेक लेने की बात करता है उसको टीम से बाहर कर दिया जाता है। “अगर एक खिलाड़ी ब्रेक लेने की सोचता है तो उसे इस बात को मैनेजमेंट से करते हुए खुशी होनी चाहिए। उनको भी खिलाड़ियों के पक्ष को समझना चाहिए, टीम से बाहर करने की जगह उनको आराम दिया जाना चाहिए।”

“जब मिकी आर्थर टीम के मुख्य कोच हुआ करते थे तो उनसे कोई भी इस बारे में बात कर सकता था। मैं उनको साल 2017 से ही इस बात को बोल रहा था अगर मेरे उपर से वर्कलोड कम नहीं हुआ तो टेस्ट क्रिकेट खेलना छोड़ दूंगा।”