महिला पायलट रचेंगी इतिहास, दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग से भरेंगी उड़ान

0 79


पहली एयर लाइन कंपनी एयर इंडिया एक और उपलब्धि हासिल करने जा रही है। इस बार एयर इंडिया की महिला पायलट की एक टीम को इस सबसे लंबे मार्ग से उड़ान भरने जा रही है। जानकारी के अनुसार, यह टीम दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग पर उत्तरी ध्रुव पर उड़ान भरेगी और सैन फ्रांस्सिको (एसएफओ) से उड़ान 9 जनवरी को बेंगलुरु पहुंचेगी और लगभग 16,000 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।

उत्तरी ध्रुव के ऊपर से उड़ान भरना बहुत ही चुनौतीपूर्ण

एयर इंडिया के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तरी ध्रुव के ऊपर से उड़ान भरना बहुत ही चुनौतीपूर्ण है और एयरलाइन कंपनियां इस मार्ग पर अपने सर्वश्रेष्ठ और अनुभवी पायलटों को भेजती हैं। इस बार एयर इंडिया ने एक महिला कप्तान को सैन फ्रांस्सिको से बंगलुरू जाने के लिए ध्रुवीय मार्ग से यात्रा की जिम्मेदारी दी है।

महिला पायलटों की टीम में ये होंगी शामिल

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार कैप्टन जोया अग्रवाल ने कहा कि मुझे गर्व है कि मेरी टीम में कैप्टन पापागारी, आकांक्षा सोनावने और शिवानी मन्हास जैसी अनुभवी कैप्टन हैं। यह पहली बार है जब पायलटों की ऐसी टीम उत्तरी ध्रुव के ऊपर से उड़ान भरेगी जिसमें केवल महिलाएं होंगी और एक तरह से यह इतिहास रचना होगा। यह किसी भी पेशेवर पायलय के लिए एक सपने की तरह है जो सच होने जा रहा है।

महिला पायलटों के लिए यह एक अलग का एहसास होगा


उड्डयन विशेषज्ञों के अनुसार उत्तरी-ध्रुव पर उड़ान भरना बेहद टेक्निकल है और इसके लिए कौशल और अनुभव की आवश्यकता होती है। कैप्टन जोया ने बताया कि वास्तव में महिला पायलटों के लिए यह एक अलग का एहसास होगा जब वे उत्तरी ध्रुव से गुजरेंगी। उन्होंने कहा कि वह 2013 में बोइंग -777 उड़ाने वाली सबसे कम उम्र की महिला पायलट थी। मैं बोइंग 777 पर दुनिया की सबसे कम उम्र की महिला कमांडर हूं। उन्होंने कहा कि महिला पायलटों का आत्मविश्वास मजबूत है,वे कार्य को असंभव नहीं मानती हैं। वह उत्तरी ध्रुव पर उड़ान की कमान संभालने वाली एयर इंडिया की पहली महिला कमांडर बनेंगी। हालांकि एयर इंडिया के पायलट पहले भी ध्रुवीय मार्ग पर उड़ान भर चुके हैं, यह पहली बार है जब कोई टीम महिला पायलट उत्तरी ध्रुव पर उड़ान भरेगी।