महामारी के कारण रियल एस्टेट बाजार में बदल गई ग्राहकों की डिमांड, डेवलपर्स के लिए है अच्छा अवसर

0 77


भारतीय रियल एस्टेट बाजार की डिमांड डायनामिक्स महामारी परिदृश्यों के सामने आने के बाद विकसित एवं बदल गई है और इस क्षेत्र में नए रुझानों की लहर देखी जा रही है। कोविड के कारण लगे लॉकडाउन की वजह से आवास बाजार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा और इन रुझानों से यह अनुमान लगाया गया कि बाजार में अभी भी व्यापक अंतर्निहित मांग है।

खरीदार ऐसे घरों की मांग कर रहे हैं जो वर्क फ्रॉम होम में सहज, स्वास्थ्य और कल्याण के लिए अधिक स्थान वाले, टाउनशिप, बाहरी सुविधाओं के साथ, शैक्षिक संस्थानों, चिकित्सा और स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ ही अच्छी कनेक्टिविटी प्रदान करते हों।

इस अवधि को डेवलपर समुदाय के लिए एक अच्छे अवसर के रूप में भी देखा जाता है, जिन्हें आने वाले समय में लोगों के जीने के तरीके को बदलने के लिए अब अपग्रेड और अलाइन करना होगा और इसके अनुसार मौजूदा आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए खरीदार की मांग को पूरा करना होगा। महामारी के इस समय में ऑफिस कॉर्नर, मनोरंजक क्षेत्र, वर्चुअल वर्कआउट, ऑनलाइन स्कूलिंग और पर्याप्त डायनिंग स्पेस जैसी सुविधाओं वाले घरों की मांग बढ़ी है।

आज घर खरीदार रियल एस्टेट को एक मूल्य-आधारित संपत्ति के रूप में निवेश करने के लिए देख रहे हैं, यह समझते हुए कि आने वाले समय में मांग अन्य वित्तीय परिसंपत्ति जो बाजार की मौजूदा स्थितियों के कारण तनाव में हैं, से ऊपर रहेगी। दूसरी बात, कोविड के समय में रेंटल हाऊसिंग की मांग ने भी कार्यस्थल पर अनिश्चितता के कारण रफ्तार पकड़ ली है। हम बड़े पैमाने पर टाउनशिप में उचित किराये पर प्रॉपर्टी के लिए बढ़ती मांग देख रहे हैं।


हैरानी की बात यह है कि इस महामारी में उद्योग ने युवा पीढ़ी को सेटल होने से पहले खुद का घर खरीदने के बारे में सोचने को मजबूर किया है। यह हमारे समाज में कभी भी प्रचलित नहीं था और जिनके परिवार है, उन्होंने घर में निवेश करने का विकल्प चुना। कारण, लॉकडाउन के दौरान और लॉकडाउन के खुलने के बाद में सरकार, नियामक और डेवलपर समुदाय द्वारा समर्थन ने युवा लोगों के लिए घर खरीदारी को एक श्रेष्ठ विचार बनाया।


स्टाम्प ड्यूटी दशक के निचले स्तर और होम लोन रेट क्रमशः 2% और 6.9% रहने के साथ प्रचलित लाभों, प्रस्तावों, योजनाओं, आकर्षक सौदों, लचीली भुगतान योजनाओं, कब्जे तक कोई पूर्व-ईएमआई नहीं, सबवेंशन स्किम ने युवा खरीदार को रियल एस्टेट में निवेश करने के लिए आकर्षित किया है।

कोविड के बाद की दुनिया में घर खरीदारों की बदलती डिमांड और डायनामिक्स ने इंडस्ट्री को अधिक आश्वस्त बनाया है जो सेंटीमेंट इंडेक्स में देखा गया है जो Q2 में 22 के ऑल-टाइम लो से Q3 में 40 तक तेजी से बढ़ा। केवल अक्टूबर महीने में पंजीकृत 7,929 इकाइयों के साथ पंजीकरण में 42% की बढ़ोतरी, जो पिछले 8 वर्षों में सबसे अधिक है, यह संकेत करता है कि डेवलपर्स कैसे महामारी के कारण मांग और बदलाव के प्रति तेजी से अनुरूप हो गए हैं।