भारत -चीन तनाव के बीच बढ़ेगी सेना की ताकत, सैनिकों को मिलेगा अमेरिका का ये खतरनाक हथि‍यार

99


चीन से सीमा पर तनाव के बीच भारतीय नौसेना को मजबूत करने की कवायद शुरू हो गई है। भारतीय और अमेरिकी रक्षा बलों के बीच सैन्य संबंध स्‍थापित करते हुए सौदा किया गया है। 3,800 करोड़ रुपये की इस समझौते के तहत कैलिबर बंदूकों से भारतीय नौसेना युद्धपोतों को लैस करेगी, जिससे नौसेना की ताकत पहले की तुलना में और अधिक बढ़ जाएगी। भारत ने 127 एमएम की 11 मीडियम कैलिबर बंदूकों को खरीदने के लिए अमेरिकी सरकार को लेटर ऑफ रिक्वेस्ट इश्यू किया है।

इसमें भारतीय नौसेना को विशाखापत्तनम श्रेणी के विध्वंसक युद्धपोतों से सुसज्‍जित किया जाना है। सरकारी सूत्रों ने बताया कि नई योजना के अनुसार, अमेरिकी प्रशासन को एलओआर जारी किया गया है। भारतीय नौसेना को प्रदान की जाने वाली पहली तीन बंदूकें अमेरिकी नौसेना वस्‍तुसूची से होंगी, ताकि भारतीय युद्धपोत पूरी तरह से जल्द से जल्द सुसज्जित हों।


एक बार अमेरिका में नई बंदूकों का उत्पादन शुरू हो जाता है और वे दूसरों देशों को देने के लिए तैयार हो जाती हैं। भारतीय युद्धपोतों पर अमेरिकी नौसेना की बंदूकों को नए सिरे से बदला जाएगा। मध्‍यम कैलिबर बंदूकें भारतीय नौसेना में नई एंट्री होंगी और इस तरह की बंदूकों की तुलना में काफी अपग्रेड भी होंगी।

पिछले चार सालों में भारतीय नौसेना ने अपने अमेरिकी समकक्ष के साथ बहुत करीबी काम संबंध विकसित किए हैं, क्योंकि सैन्‍यबलों को ज्‍यादातर नए उपकरण अमेरिका से आ रहे हैं। टोही विमानों सहित सैन्‍य बलों में रूसी उपकरणों को पी -8 आई विमान से बदला गया है। नएस बहुउद्देश्‍यीय हेलीकॉप्टर भी अमेरिका से आ रहे हैं क्योंकि सी-हेलिंग हेलिकॉप्टरों को एमएच -60 रोमियो द्वारा बदला जाएगा।


भारतीय नौसेना द्वारा अमेरिकी प्रीडेटर ड्रोन को भी अमेरिकी फर्म जनरल एटॉमिक्स से पट्टे पर दिया गया है और दोनों पक्षों के बीच इस तरह के मानवरहित सिस्टम के एक त्रैमासिक सौदे के हिस्से के रूप में आने की उम्मीद है। भारत और अमेरिका एफ-ए 18 लड़ाकू विमानों की बिक्री की संभावना पर भी चर्चा कर रहे हैं। उन्हें अमेरिकी सरकार द्वारा हाल में दो देशों के बीच दो प्लस दो बैठकों के दौरान पेश किया गया था।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.