भाजपा दिल्ली की जनता के धैर्य की परीक्षा न ले और प्रस्ताव वापस ले: दुर्गेश पाठक

0 36


आम आदमी पार्टी (आप) पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक ने शनिवार को दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के बजट में पार्षदों के फंड में की गई बढ़ोतरी पर विरोध जताया। पाठक की आपत्ति का जवाब देते हुए दिल्ली प्रदेश भाजपा के महामंत्री हर्ष मल्होत्र ने कहा कि निगम के हर काम की निंदा कर विवाद खड़ा करना ही आप का एक मात्र काम रह गया है। जबकि, निगम की तरफ फंड बढ़ाने के फैसले से जनता को लाभ होगा।

पार्टी मुख्यालय में प्रेसवार्ता करते हुए दुर्गेश पाठक ने कहा ‘दक्षिणी नगर निगम के पास कर्मचारियों को वेतन देने के लिए पैसे नहीं है, लेकिन बजट में पार्षदों का फंड 50 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ रुपये कर दिया है और चेयरमैन, वाइस चेयरमैन को 50 लाख का अतिरिक्त पैकेज देकर उनका फंड 1.5 करोड़ रुपये कर दिया है। जबकि, केजरीवाल सरकार ने अपनी योजनाओं के फंड में कटौती कर निगमों को 1,095 करोड़ रुपये दिए थे, ताकि कर्मचारियों के वेतन व अन्य जरूरतों को पूरा किया जा सके।


आम आदमी पार्टी इसका विरोध करती है।’ इसके अलावा पाठक ने पार्षदों के इलाज के लिए लाए गए प्रस्ताव का विरोध करते हुए कहा ‘दक्षिणी दिल्ली नगर निगम से सेवानिवृत्त कर्मचारियों का कैशलेस इलाज तो नहीं हो पा रहा है, उल्टे उनसे लिए गए पैसे से अब पार्षदों का इलाज कराने के लिए प्रस्ताव लाया गया है। आम आदमी पार्टी की अपील है कि भाजपा दिल्ली की जनता के धैर्य की परीक्षा न ले और इस अमानवीय प्रस्ताव को वापस ले।’


क्या विधायकों की सुविधाएं भी अमानवीय : हर्ष मल्होत्रा

पाठक के आरोपों का जवाब देते हुए हर्ष मल्होत्र ने कहा ‘दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की तरफ से पार्षद फंड में की गई वृद्धि पर आप की आपत्ति समझ से परे है, क्योंकि इस वृद्धि के बाद सत्ता एवं विपक्ष दोनों के पार्षद अपने वार्ड में स्थानीय लोगों के सुझाव पर अधिक खर्च कर सकते हैं।

आप निगम के हर काम की निंदा कर विवाद खड़ा करती है।’ इसके अलावा निगम पार्षदों के इलाज के प्रस्ताव के संबंध में लगाए गए आरोपों मल्होत्र ने कहा ‘निगम पार्षदों को मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराने को आप की तरफ से अमानवीय कहना अचंभित करता है। दिल्ली में विधायकों को भी तो मेडिकल सुविधाएं मिलती हैं, तो क्या आप उसे भी आप अमानवीय कृत्य मानती है।’