बिहार के पॉलीटेक्निक संस्थान बन रहे स्‍मार्ट, वेब डिजाइनिंग व डिजिटल मार्केटिंग सहित दर्जनों आधुनिक कोर्स जल्‍द होंगे शुरू

0 75


प्रदेश के सरकारी पॉलीटेक्निक संस्थानों (Polytechnic Institutes of Bihar) में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (Center of Excellence) की स्थापना के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। अब इन संस्थानों में वैसे पाठ्यक्रम को संचालित करने में प्राथमिकता दी जाएगी, जो पढ़ाई करने वाले युवाओं को रोजगार एवं स्वावलंबी बनाने में मददगार होंगे। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (Science and Technology Department) ने नए कोर्स को जल्द लागू करने का फैसला किया है, जिनमें वेब डिजाइनिंग (web designing) और डिजिटल मार्केटिंग (Digital marketing) रोबोटिक्स (Robotics) और थ्री-डी प्रिंटिंग (3D Printing) जैसे दर्जन भर कोर्स शामिल किए जा रहे हैं। ऐसे कोर्स को लागू करने में आइटी कंपनियों (IT Companies) से मदद ली जाएगी।

नीतीश के सात निश्चय-2 में शामिल

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के फैसलों पर अगर तेजी से अमल हुआ तो राज्य के युवाओं को समुचित तरीके से दक्ष करने के उद्देश्य से तकनीकी शिक्षा में व्यापक गुणात्मक सुधार और बदलाव लाने में मदद मिलेगी। इसका प्रावधान बजट में भी किया गया है, जो नए वित्तीय वर्ष में नीतीश सरकार के सात निश्चय-2 कार्यक्रम का हिस्सा है। सरकारी पॉलीटेक्निक संस्थानों में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना के लिए कई आइटी कंपनियों से विमर्श चल रहा है। जिन आइटी कंपनियों से सरकार तकनीकी शिक्षा में मदद लेने जा रही है उन कंपनियां द्वारा पॉलीटेक्निक संस्थानों के पाठ्यक्रम में भी बदलाव लाने का काम किया जाएगा। ऐसी कंपनियों के नाम जल्द ही वेबसाइट पर अपलोड किए जाएंगे।


इन पाठ्यक्रमों को लागू करने की मंजूरी

विभाग के एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने बताया कि सेंटर ऑफ एक्सीलेंस में मई तकनीक की पढ़ाई को प्रभावी तरीके से लागू किया जाएगा। ड्रोन, सोलर टेक्नोलॉजी, ऑप्टिकल, फाइबर नेटवर्किंग, मोबाइल टावर, ऑटोमेशन, रोबोटिक्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ब्लॉक चेन, मोबाइल एप, मशीन लर्निंग जैसे पाठ्यक्रम को लागू करने की सहमति दी गई है।