बिहार के टीचर ने दिमाग तेज करने के लिए 5 छात्रों को लगा दिया नॉर्मल सैलाइन का इंजेक्शन

0 74


दिमाग तेज करने के लिए एक ट्यूशन टीचर ने पांच बच्चों को नॉर्मल सैलाइन (एनएस) के इंजेक्शन लगा दिए। टीचर ने यू-ट्यूब पर देखा था एनएस का इंजेक्शन लगाने से दिमाग तेज होता है और कद भी बढ़ जाता है। उसने बच्चों के कूल्हे की मांसपेशियों में इंजेक्शन लगाए, जबकि एनएस को नस के जरिये शरीर में चढ़ाया जाता है। टीचर की पोल तब खुली जब एक छात्र ने इंजेक्शन लगवाने से मना कर दिया और मामले की सूचना अपने परिवार को दी। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित संदीप माथुर को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, जमानती धारा होने की वजह से उसे कुछ ही घंटों में जमानत भी मिल गई। आरोपित दिल्ली विश्वविद्यालय के नार्थ कैंपस के एक कॉलेज में बीए द्वितीय वर्ष का छात्र है। पुलिस ने इसके पास से कई इंजेक्शन बरामद किए हैं, जिन्हें जांच के लिए लैब में भेजा गया है। जांच में सामने आया कि पांच बच्चों को इसने इंजेक्शन लगाया है। आरोपित के इंजेक्शन लगाने के पीछे के मकसद को पुलिस जानने की कोशिश कर रही है।


पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार को पंडित चौक मंडावली से सूचना मिली थी कि एक ट्यूशन टीचर बच्चों को इंजेक्शन लगा रहा है। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो चौक पर जुटी भीड़ ने ट्यूशन टीचर को पकड़ा हुआ था। एक छात्र ने पुलिस को बताया कि वह नौवीं का छात्र है। आरोपित ट्यूशन पढ़ाते वक्त बच्चों से कहता था कि पढ़ाई में दिमाग तेज करना है तो एक इंजेक्शन लगवा लो, उससे कद भी बढ़ जाएगा। टीचर ने जब उससे इंजेक्शन लगवाने के लिए कहा तो उसने लगवाने से मना कर दिया। इस पर आरोपित ने उसे ट्यूशन से निकाल दिया, छात्र ने ट्यूशन जाना छोड़ दिया। उसके दोस्त ट्यूशन जाते रहे। परीक्षा के दिन करीब आने पर दोस्त के दबाव में वह दोबारा ट्यूशन जाने लगा। टीचर ने फिर से उस पर इंजेक्शन लगवाने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया। बच्चे ने ट्यूशन में इंजेक्शन लगवाने से मना कर दिया और इंजेक्शन एक सि¨रज में भरवाकर घर ले आया। पीडि़त ने पूरा मामला अपने पिता को बताया और उसके पिता ने अपने मकान मालिक को इसकी सूचना दी। पुलिस ने छानबीन करके आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।


यू-ट्यूब से आया इंजेक्शन का आइडिया

आरोपित मूलरूप से बिहार का रहने वाला है। वह मंडावली में किराये के मकान में रहता है। प्रसिद्ध होने के लि उसने पढ़ाई के साथ ही मंडावली इलाके के आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को निश्शुल्क पढ़ाना शुरू कर दिया। वह छठी से नौवीं के विद्यार्थियों को पढ़ा रहा था, करीब 50 बच्चे इसके ट्यूशन में थे। उसने यू-ट्यूब पर एक वीडियो देखी जिसमें दिखाया गया कि एनएस का इंजेक्शन देने से बच्चों के दिमाग को तेज किया जा सकता है।