पुलिस ने गाजियाबाद को दिल्ली से जोड़ने वाले दो राष्ट्रीय राजमार्गों को किया ट्रैफिक के लिए बंद

0 81


दिल्ली न्यूज़24  || कृषि कानून के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर चल रहा प्रदर्शन जारी है। बॉर्डर पर हो रहे प्रदर्शन की वजह से सीमा पर वाहनों की रफ्तार थमी हुई है। किसान सड़क पर बैठे हुए हैं, पुलिस उनको समझा बुझाकर ट्रैफिक चलने वाले रास्ते से अलग हटकर बैठने के लिए कह रही है। कुछ सीमाओं पर किसान बैठे हुए हैं वहीं पर उन्होंने अपनी ट्रैक्टर ट्राली खड़ी कर रखी है और खाना आदि बनाने का कार्यक्रम भी चल रहा है।

पुलिस ने गुरुवार को गाजियाबाद को दिल्ली से जोड़ने वाले दो राष्ट्रीय राजमार्गों पर सड़क को बंद कर दिया क्योंकि किसान नए कृषि कानूनों को खत्म करने की मांग पर अड़े हुए हैं और हरियाणा और उत्तर प्रदेश के साथ राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हुए हैं।

प्रदर्शनकारी किसानों ने बुधवार को धमकी दी थी कि अगर उनकी मांगें पूरी नहीं की गईं तो वे दिल्ली की अन्य सड़कों को जाम कर देंगे। स्थानीय पुलिस ने गाजियाबाद से दिल्ली तक NH-9 और NH-24 पर मार्गों को बंद कर दिया है। एनएच -1 पर शनि मंदिर के पास दोनों किनारों को बंद कर दिया गया है। दिल्ली यातायात पुलिस ने इस बारे में ट्वीट करके जानकारी भी दी है।


चिल्ला बॉर्डर पर, दिल्ली से नोएडा के लिए वाहनों को एक तरफ से निकलने के लिए रास्ता खोला गया है। हालांकि, अन्य कैरिजवे – नोएडा से दिल्ली तक – अभी भी बंद है।

झारखंड, झटिकरा में दिल्ली-हरियाणा सीमा यातायात की आवाजाही के लिए बंद रही। बडूसराय सीमा केवल दोपहिया यातायात के लिए खुली है। हालांकि, ट्रैफिक पुलिस ने कहा कि लोग धनसा, दौराला, कापसहेड़ा, राजोखरी, एनएच 8, बिजवासन / बजघेरा, पालम विहार और डूंडाहेड़ा सीमा बिंदुओं के माध्यम से हरियाणा में प्रवेश कर सकते हैं। यहां अभी इस तरह की कोई समस्या नहीं है। पुलिस ने सिंघू और टिकरी बॉर्डर में हरियाणा-दिल्ली की सीमा को भी आठ दिनों तक यातायात के लिए बंद रखा।


सिंघू सीमा अभी भी दोनों ओर से बंद है। लामपुर, औचंदी और अन्य छोटे बॉर्डर भी बंद कर दिए गए हैं। पुलिस का कहना है कि वाहन चालक वैकल्पिक मार्ग का प्रयोग करें। मुकरबा चौक और जीटीके रोड से ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है।

पुलिस का कहना है कि किसानों के आंदोलन की वजह से ट्रैफिक का दबाव है। वाहन चालक सिग्नेचर ब्रिज से रोहिणी और इसके विपरीत, जीटी करनाल रोड, एनएच 44 और सिंघू, औचंदी और लामपुर बॉर्डर से आउटर रिंग रोड से बचें। जैसे-जैसे ट्रैफ़िक को वैकल्पिक मार्गों पर फैलाया गया, इससे वहाँ लंबे जाम भी लगे।

कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शनकारी किसानों ने दिल्ली जाने वाले शहर के प्रमुख मार्गों पर धरना दे रखा है। नोएडा से दिल्ली जाना मुश्किल हुआ है। दिल्ली जाने वाले लोगों को वैकल्पिक मार्गों का प्रयोग करके अपने गंतव्य की जाना पड़ रहा है। इन मार्गों पर उन्हें जाम की समस्या से जूझना पड़ रहा है। जाम में फंसकर अतिरिक्त ईंधन के साथ उनका कीमती वक्त बर्बाद हो रहा है।

चिल्ला बार्डर पर किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए यातायात पुलिस ने डायवर्जन लागू किया है। नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे का प्रयोग कर दिल्ली की ओर जाने वाले वाहन चालक कालिंदी कुंज डीएनडी फ्लाइ-वे का प्रयोग कर अपने गंतव्य की ओर जाना पड़ रहा है।


वहीं नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे का प्रयोग कर दिल्ली, नोएडा व गाजियाबाद की ओर जाने वाले वाहन चालक महामाया फ्लाइओवर फिल्म सिटी फ्लाइओवर, डीएनडी फ्लाइ-वे का प्रयोग करके अपने गंतव्य की ओर जा ना पड़ रहा है। उधर नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे का प्रयोग करके दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद की ओर जाने वाले वाहन चालक महामाया फ्लाइओवर, फिल्मसिटी फ्लाइओवर का प्रयोग करके दादरी, सूरजपुर, छलैरा (डीएससी) मार्ग से होकर न्यू अशोक नगर, वसुंधरा, कोंडली, एनआइबी, माडल टाउन व छिजारसी से अपने गंतव्य की ओर तक जाना पड़ रहा हैं। इसके चलते उन्हें अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ रही है।


गौरतलब है कि किसान चिल्ला बार्डर दिल्ली-नोएडा मार्ग पर कृषि कानून के विरोध में किसानों का धरना प्रदर्शन लगातार तीसरे दिन भी जारी रहा। नोएडा से दिल्ली जाने वाले मार्ग पर चिल्ला बार्डर पूरी तरह से सील है। हालांकि दिल्ली से आने वाला मार्ग खुला होने के चलते वाहन चालक आसानी से आ जा रहे हैं।

दिल्ली जाने वाले इन मार्गों पर बढ़ा लोड :

चिल्ला बार्डर बंद होने के चलते वाहन चालकों को कालिंदी कुंज, डीएनडी के रास्ते दिल्ली जाना पड़ रहा है। वहीं मयूर विहार फेस-1 की तरफ जाने वाले चालक चालक अशोक नगर बार्डर, वीडियोकान बार्डर व हरिदर्शन बार्डर के जरिये दिल्ली जा रहे हैं। सेक्टर-62 स्थित एनआइबी व सेक्टर-63 स्थित छिजारसी होकर दिल्ली जाने वालों की संख्या भी बढ़ी है। इससे इन मार्गों पर जाम की समस्या बन रही है। बृहस्पतिवार को पीक आवर में इन वाहनों पर जाम की समस्या रही। सबसे अधिक जाम महायामा फ्लाइओवर के पास रहा। यहां व्यस्त समय में पांच किलोमीटर लंबा जाम लग रहा है। व्यस्त समय में दिल्ली जाने वालों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।


किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए अस्थायी तौर पर यह ट्रैफिक डायवर्जन लागू किया है। किसानों का प्रदर्शन समाप्त होने के बाद पहले की तरह यातायात व्यवस्था सुनिश्चित रहेगी।