पुलिस-किसानों की बैठक बेनतीजा, दिल्‍ली में ट्रैक्‍टर परेड की नहीं मिली इजाजत

0 49


गणतंत्र दिवस के मौके पर राजधानी के बाहरी रिंग रोड पर किसानों की ओर से प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड को लेकर मंगलवार को दिल्ली पुलिस व किसान नेताओं के बीच हुई बैठक फिलहाल किसी ठोस निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सकी। ऐसे में अब अगली बैठक बुधवार को दोबारा तय की गई है। इसके पूर्व भी इस मसले को लेकर सोमवार को कुंडली बार्डर पर दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने किसान नेताओं के साथ बैठक की थी।

सनद रहे कि सोमवार को ही सुप्रीम कोर्ट ने किसानों के दिल्ली में प्रवेश पर रोकने संबंधि केंद्र सरकार की ओर से दायर अर्जी की सुनवाई करते हुए इस मामले को दिल्ली पुलिस पर छोड़ दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि दिल्ली में प्रवेश किसे देना है और किसे नहीं देना है, यह तय करना पुलिस का काम है। सुप्रीम कोर्ट की इस टिप्पणी के बाद से ही दिल्ली पुलिस किसान नेताओं से लगातार संपर्क कर ट्रैक्टर परेड को रोकने की कवायद में गंभीरता से जुट गई है।


अब बुधवार को होगी अगली बैठक

बताया जाता है कि मंगलवार को राष्ट्रीय राजमार्ग पर सिंघु बार्डर व मुकरबा चौक के बीच स्थित एक रिसोर्ट में उत्तरी रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त एसएस यादव ने संयुक्त किसान मोर्चा के डॉ. दर्शन पाल, योगेंद्र यादव, बलबीर सिंह राजेवाल जगजीत सिंह आदि के साथ बैठक की। करीब डेढ घंटे तक चली बैठक में दिल्ली पुलिस ने किसान नेताओं को ट्रैक्टर परेड के रूट के बारे में जानकारी मांगी। ऐसे में किसान नेताओं ने उन्हें बताया कि यह परेड बाहरी रिंग रोड पर निकाली जाएगी और यह सिंघु, टीकरी, ढांसा आदि बार्डर आदि से होकर गुजरेगी।


इस पर पुलिस अधिकारी ने उन्हें गणतंत्र दिवस के मौके पर सुरक्षा व्यवस्था का हवाला दिया और उन्हें परेड के दौरान संभाावित अव्यवस्था को लेकर आशंका जताई। ऐसे में किसान नेताओं को दिल्ली से बाहर परेड निकालने के लिए कहा गया। लेकिन, इस पर किसान नेताओं असहमति जता दी। ऐसे में बैठक में कोई नतीजा नहीं निकालने पर बुधवार को दोबारा बैठक बुलाई गई है।

इधर, किसान नेता शिव कुमार कक्काजी ने कहा कि आउट रिंग रोड पर ट्रैक्टर मार्च के लिए किसान संगठनों को दिल्ली पुलिस की ओर से मनाही हुई है। दिल्ली पुलिस ने केएमपी और केजीपी का विकल्प दिया। ट्रैक्टर मार्च के रूट को लेकर अभी बना गतिरोध हुआ है। बुधवार को केंद्र सरकार से वार्ता के बाद एक बार फिर दिल्ली पुलिस के अधिकारियों से वार्ता होगी।