‘नो फीस–नो एग्जाम’ का स्कूलों ने किया ऐलान, बिना परीक्षा अगली कक्षा में नहीं करेंगे प्रोन्नत

0 41


एक तरफ जहां विभिन्न राज्यों की सरकारों द्वारा ऐडेड एवं नॉन-ऐडेड (निजी) स्कूलों में शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए जाने वाले शिक्षण शुल्क में निश्चित सीमा तक और अन्य शुल्क मदों में 100 फीसदी तक की कटौती की घोषणाएं की जा रही है तो वहीं दूसरी ओर मुरादाबाद (उत्तर प्रदेश) के कुछ निजी स्कूलों ने ‘नो फीस-नो एग्जाम’ का ऐलान किया है। मुरादाबाद एसोशिएशन ऑफ प्राइवेट स्कूल्स ने संघ में शामिल निजी स्कूलों के बाहर पोस्टर लगाया है जिसमें उन्होंने घोषणा की है कि यदि स्टूडेंट्स द्वारा फीस सबमिट नहीं की जाती है तो वे उन्हें परीक्षाओं में सम्मिलित नहीं होने देंगे। इन स्कूलों द्वारा ‘नो एग्जाम नो प्रमोशन टू नेक्स्ट क्लास’ की घोषणा करते हुए बिना परीक्षा दिये स्टूडेंट्स को अगली कक्षा में प्रोन्नत न करने की बात कही गयी है।

समाचार एजेंसी एएनआई की खबर के मुताबिक इस सम्बन्ध में संघ अध्यक्ष ने कहा, “यदि स्टूडेंट्स फीस का भुगतान नहीं करते हैं तो हम उन्हें परीक्षाओं में बैठनें नहीं देंगे। पिछला वर्ष कोविड-19 की वजह से हम सभी के लिए कठिन रहा है, स्टूडेंट्स स्कूल नहीं आ रहे थे और इसलिए उन्होंने फीस का भी भुगतान नहीं किया है। हम स्कूलों को इस समय ऑनलाइन क्लासेस के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है। इसके बावजूद हमें शिक्षकों के वेतन देने में भी बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में यदि स्टूडेंट्स परीक्षाओं में सम्मिलित होना चाहते हैं तो उन्हें फीस का भुगतान करना होगा।“

साथ ही, संघ अध्यक्ष ने कहा कि महामारी के दौरान दिसंबर तक स्टूडेंट्स द्वारा स्कूल फीस का भुगतान नहीं किया गया है। अब जबकि परीक्षाएं नजदीक आ रही हैं तो कुछ छात्रों ने कक्षाओं में शामिल होना शुरू कर दिया है, हालांकि, अभी भी 50 से 60 फीसदी स्टूडेंट्स की फीस का भुगतान नहीं हुआ है।