नरेंद्र मोदी सरकार ने किसानों का 95,000 करोड़ का कर्ज किया माफ: अमित शाह

0 104


दक्षिण दिल्ली के वसंत कुंज के किशनगढ़ स्थित गौशाला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन हुआ। इससे पहले यहां पर अपने संबोधन में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि 10 साल के दौरान यूपीए की सरकार रही और उन्होंने 60 हजार करोड़ रुपये माफ किया, जबकि मोदी सरकार ने 95 हजार करोड़ का कर्ज माफ किया। इसके अलावा 18 हजार करोड़ रुपये किसानों के अकाउंट में सीधे भेजा। राहुल गांधी जी, शरद पवार जब कृषि मंत्री थे, तब किसानों का बजट सिर्फ 21 हजार 900 करोड़ रुपये। वहीं, मोदी जी ने एक लाख 34 हजार 399 करोड़ का बजट दिया कृषि के लिए दिया।

अमित शाह ने कहा कि केंद्र सरकार ने 2009 से 2014 के बीच धान और गेहूं की खरीद पर सिर्फ 3 लाख 74 हजार करोड़ रुपये का धान और गेहूं खरीदा था, जबकि हमने 8 लाख 22 हजार करोड़ का धान और गेहूं खरीदा। वर्तमान में हर जगह यूरिया उपलब्ध है। एनडीए सरकार ने 10 हजार किसान उत्पादक संगठन बनाया, शहद उत्पादन के लिए 500 करोड़ रुपये दिए।


उन्होेंने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के हक में हैं। किसानों की भूमि को कोई छीन नहीं सकता। मंडियां भी चलती रहेंगी। देश की जनता ने कांग्रेस को नकार दिया तो ये रुदाली की तरह रो रहे हैं।

किसान संगठनों को लगता है कि ये कानून उनके भले के लिए नहीं हैं तो सरकार हर बहस, हर चर्चा और खुले मन से कैसा भी विचार करने को तैयार है। मोदी जी को तो किसानों ने पूर्ण बहुमत दिया है, इसलिए हम भी किसानों का हर तरह से भला करने को तैयार हैं।


बता दें कि यह कार्यक्रम दक्षिणी दिल्ली के सांसद रमेश बिधूड़ी की ओर से आयोजित किया गया है। वहीं, इससे पहले नए कृषि कानून के समर्थन में बृहस्पतिवार को ओखला विधानसभा के मदनपुर खादर गांव में किसान चौपाल का आयोजन किया गया। इसमें नए कृषि कानून के बारे में किसानों को विस्तार से जानकारी दी गई। किसानों को बताया गया कि कौन-कौन से ऐसे बिंदु हैं जिनकी वजह से आने वाले समय में यह कानून किसानों की आय बढ़ाएगा।


ओखला विधानसभा से पूर्व प्रत्याशी ब्रह्म सिंह ने किसानों से कहा कि विपक्षी दल किसानों को गुमराह कर रहे हैं, इसलिए उनसे सावधान रहें। वहीं, किसान मोर्चा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष विनोद सहरावत ने कहा कि नए कानून से किसानों की आय बढ़कर दोगुनी हो जाएगी।

उन्होंने यहां पर मौजूद लोगों से कहा कि देश भर के किसान इन कानूनों का समार्थन कर रहे हैं लेकिन विपक्षी दलों के लोग किसानों को बरगला कर उनसे आंदोलन करवा रहे हैं। कार्यक्रम में लोकगीतों के जरिये किसानों को नए कानून की खासियत बताई गई। इस दौरान जिलाध्यक्ष विनोद बछेड़ी, सुनील, संजीव, करण चौधरी, जितेंद्र डीडा, भगत बिधूड़ी, जीतू बिधूड़ी, जीतू बिधूड़ी, पवन पांडेय, शशि धवन, मुरली मुखर्जी, विनय भाटी, रोहित चौहान, अमित बिधूड़ी, अजय गुप्ता आदि मौजूद रहे।